Lead NewsNEWSRanchi

पतरातू थर्मल पावर प्लांट शुरू होने में अभी एक साल और वक्त लगेगा, सरकार ने फिर बढ़ायी समय सीमा

Ranchi: कोरोना महामारी व अन्य अवरोधों की वजह से पतरातू थर्मल पावर प्लांट निर्माण कार्य संपन्न होने में देरी हो रही है. पहले 2022 से प्लांट से बिजली उत्पादन शुरू करने का लक्ष्य तय किया गया था. अब देरी के मद्देनजर ऊर्जा विभाग साल 2023-24 प्लांट से पहले यूनिट के चालू होने की बात कह रहा है. जानकारी हो कि ये राज्य का पहला ऐसा पावर प्लांट होगा जिसकी क्षमता 4000 मेगावाट होगी. अलग-अलग चरणों में प्लांट का काम पूरा किया जाएगा. इसके लिये पहले चरण में 2400 मेगावाट पर काम जारी है. जिसमें 800-800 मेगावाट के तीन यूनिट निर्माणाधीन है. इसके पहले साल 2019 में पहले चरण के तहत एक यूनिट शुरू करने की योजना थी. जिससे बढ़ाते हुए 2022 किया गया था

 

दूसरे चरण के तहत 1600  मेगावाट में किया जायेगा काम: योजना अनुसार दूसरे चरण के तहत 1600 मेगावाट पर काम किया जायेगा. जानकारी हो कि साल 2015 में झारखंड विद्युत विरतण निगम लिमिटेड ने एनटीपीसी के साथ समझौता किया गया था. जिसके बाद पतरातू थर्मल पावर प्लांट का निमार्ण कार्य एनटीपीसी की ओर से किया जा रहा है. साल 2015 से पावर प्लांट पर काम जारी है. बता दें कि पतरातू विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड, राज्य सरकार और एनटीपीसी का संयुक्त उद्यम है. शुरूआती दिनों में पावर प्लांट से एक मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य है. इसके बाद इसकी क्षमता बढ़ायी जायेगी. कुल योजना 18000 करोड़ की है. यूनिट के शुरू होने से राज्य को अपने स्रोतों से बिजली मिलेगी. जो कुल उत्पादित बिजली का लगभग 25 प्रतिशत होगी. ऐसे में अन्य जेनरेटर कंपनियों पर जेबीवीएनएल की निर्भरता कम होगी.

Related Articles

Back to top button