न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पटना पुलिस लाइन हिंसा मामला : बवाल मचाने वाले 92 पुलिसकर्मी स्थानांतरित

एक दिन बाद सोमवार को 92 पुलिसकर्मियों को पटना प्रक्षेत्र से अन्य पुलिस प्रक्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया है.

43

Patna : बिहार सरकार ने पटना में एक प्रशिक्षु महिला सिपाही की मौत के बाद न्यू पुलिस लाइन में हिंसा और तोड़फोड़ हुई. इन गतिविधियों में कथित तौर पर शामिल रहे आठ सिपाहियों और 167 प्रशिक्षु सिपाहियों को सेवा से बर्खास्त तथा 23 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया. एक दिन बाद सोमवार को 92 पुलिसकर्मियों को पटना प्रक्षेत्र से अन्य पुलिस प्रक्षेत्र में स्थानांतरित कर दिया है.

इसे भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री राजेन गोहेन, कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव पर प्राथमिकी, भड़काऊ बयानबाजी के आरोप

अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) एस के सिंघल ने बताया कि स्थानांतरित किए गए 92 पुलिसकर्मियों में दो अवर निरीक्षक, दो सिविल जमादार, 16 सहायक अवर निरीक्षक, 11 हवलदार और बाकी अन्य सिपाही शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : दिल्ली :  राजधानी में हवा की गुणवत्ता अत्यंत गंभीर, दीवाली के दौरान हालात बिगड़ने की आशंका

न्यू पुलिस लाइन में तोड़फोड़

एक प्रशिक्षु महिला सिपाही सविता पाठक को बीमारी के बावजूद छुट्टी नहीं मिली. इलाज के दौरान ऐसे में उसकी मौत हो गई. इस घटना से आक्रोशित सिपाहियों ने कथित रूप से न्यू पुलिस लाइन में तोड़फोड़ की और एक पुलिस उपाधीक्षक से मारपीट और उनके घर में घुसकर परिवार के साथ अभद्रता की गई. इस मामले में जांच का जिम्मा पटना प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक नैय्यर हसनैन खान को सौंपा गया था.

इसे भी पढ़ें : भारत और मालावी के बीच तीन समझौते, 18 जल परियोजनाओं के लिए कर्ज देगा भारत

इस मामले में कार्रवाई करते हुए आठ पुरुष सिपाहियों के साथ ही 167 प्रशिक्षु सिपाहियों को बर्खास्त कर दिया गया था. इसके अलावा 23 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है.

इसे भी पढ़ें : राम मंदिर निर्माण को लेकर संत सत्यमित्रानंद छह दिसंबर से अनशन करेंगे

92 पुलिसकर्मियों के स्थानांतरण का आदेश जारी

खान ने पुलिस लाइन में दस वर्षों से अधिक समय से जमे 92 पुलिसकर्मियों को पटना जोन से बाहर स्थानांतरित करने की सिफारिश पुलिस मुख्यालय भेजी थी. पुलिस मुख्यालय द्वारा इन 92 पुलिसकर्मियों के स्थानांतरण का आदेश जारी करते हुए उन्हें 10 नवंबर तक कार्यमुक्त कर दिए जाने का निर्देश दिया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: