HEALTHJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

RIMS में मरीजों को 24 घंटे मिलेंगे डॉक्टर, इसलिए बन रहा न्यू ट्रामा सेंटर में कंट्रोल रूम

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में व्यवस्था सुधारने को लेकर प्रबंधन ने कमर कस ली है. एक के बाद एक नई सुविधाएं मरीजों के लिए शुरू की जा रही है जिससे कि उन्हें इलाज से लेकर जांच के लिए बाहर न जाना पड़े. अब हॉस्पिटल में आने वाले मरीजों को इलाज कराने में कोई परेशानी न हो इसके लिए न्यू ट्रामा सेंटर में कंट्रोल रूम की शुरुआत की जा रही है. जहां पर 24 घंटे डॉक्टर उपलब्ध रहेंगे. वहीं संबंधित डॉक्टरों से लाइन अप कर मरीजों का इलाज सुनिश्चित कराएंगे. जिससे कि इलाज को आने वाले मरीजों को यहां-वहां भटकना नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें : झरिया के लोगों ने वंशिका और मनिता को दी श्रद्धांजलि, कहा-स्वजनों को 25 लाख मुआवजा दे बिजली विभाग

advt

कंट्रोल रूम का जारी होगा हेल्पलाइन नंबर

कंट्रोल रूम में ड्यूटी चीफ मेडिकल ऑफिसर की होगी. तीन शिफ्ट में वे सुबह से लेकर रात तक मौजूद रहेंगे. इनकी जिम्मेवारी इमरजेंसी से लेकर इनडोर और ओपीडी में एडमिट मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराना होगा. वहीं अगर कोई डॉक्टर इसमें आनाकानी करता है तो इसकी रिपोर्ट भी सीनियर अधिकारियों को करेंगे. जल्द ही कंट्रोल रूम के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें : इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला, बच्चों के साथ ओरल सेक्स गंभीर यौन हमला नहीं, सजा घटाई

हर दिन आते है 2500 से अधिक मरीज

हॉस्पिटल के ओपीडी में हर दिन 2000 मरीज आते है. वहीं इमरजेंसी में भी 500 के लगभग मरीजों का इलाज किया जाता है. ऐसे में इमरजेंसी वाले मरीजों को दिकक्त होती है. वहीं मरीजों को यहां-वहां भेजने में भी डॉक्टर नहीं हिचकिचाते. यह बात रिम्स प्रबंधन भी स्वीकार करता है. इसलिए कंट्रोल रूम की व्यवस्था की जा रही है. जिससे कि मरीजों को टहलाने से पहले डॉक्टर भी एकबार जरूर सोचेंगे.

इसे भी पढ़ें : Good News: झारखंड की टीम को संतोष ट्रॉफी में खेलने की मिली अनुमति, एक दिन पूर्व लगी थी रोक

30 बेड का इमरजेंसी सुविधा हो रही शुरू

इमरजेंसी में सारी सुविधाओं के साथ 30 बेड की शुरुआत की जा रही है. जहां गंभीर मरीजों के लिए हाइटेक सुविधाएं होगी. वहीं कोविड को देखते हुए सभी बेड चालू किए जाएंगे. इससे जाहिर है कि रिम्स में मरीजों की भीड़ एकबार फिर से बढ़ेगी. यह देखते हुए ही मरीजों को बेहतर इलाज मिले और उन्हें प्राइवेट हॉस्पिटलों की दौड़ नहीं लगानी होगी.

इसे भी पढ़ें : नक्सली बंद के पहले दिन माओवादियों का उत्पात, मोबाइल टावर को किया आग के हवाले, किसान भवन उड़ाया

हॉस्पिटल के डिप्टी मेडिकल सुपरिटेंडेंट मेजर डॉ शैलेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि रिम्स राज्य का सबसे बड़ा संस्थान है. इसलिए यहां पर ऐसी व्यवस्था हमलोग करने जा रहे है कि मरीजों को तत्काल इलाज मिले. हमारे पास पर्याप्त चीफ मेडिकल आफिसर भी है जिससे कि डॉक्टरों और मरीजों की मॉनिटरिंग की जा सकेगी.

इसे भी पढ़ें : Jharkhand: रूर्बन मिशन की योजनाएं 31 दिसंबर तक चालू नहीं हुई तो केंद्र सरकार रोक देगी राशि

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: