न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएमसीएच में मरीजों को नहीं मिल रहा आयुष्मान योजना का लाभ, मरीज हैं बेहाल   

कहने को तो अमर सिंह आयुष्मान भारत का गोल्डन कार्ड भी मौजूद है.

65

Dhanbad : जिले के  सिंदरी गौशाला निवासी अमर सिंह (65) 28 दिसंबर को पीएमसीएच में हार्निया के इलाज के लिये भर्ती हुए थे. कहने को तो अमर सिंह आयुष्मान भारत का गोल्डन कार्ड भी मौजूद है. साथ ही उनके पास आयुष्मान योजना के तहत दिया जाना वाला फॉर्म भी मौजूद है, जिसपर डॉक्टर्स दवा लिखते हैं. लेकिन इसके बावजूद अमर सिंह को गोल्डव कार्ड का लाभ नहीं मिल पा रहा है. वृद्धा पेंशन के भरोसे अपना और अपनी पत्नी का गुजारा चलाने वाले अमर सिंह डॉक्टरों की अनदेखी और मनमानी से परेशान हैं.

छोटे–छोटे चुटकों पर दवा लिख रहे हैं डॉक्टर

दरअसल इनका हार्निया का ऑपरेशन पीएमसीएच में हुआ है और डॉक्टर गोल्डेन कार्ज के फॉर्म पर दवा ना लिखकर छोटे–छोटे चुटकों पर दवा लिख रहे हैं. जिससे उन्हें दवा बाहर से खरीदना पड़ रहा है और आयुष्मान भारत का लाभ नहीं मिल पा रहा है. जो दवा मरीजों को आयुष्मान योजना के तहत फ्री में मिलना चाहिये उसे वे बाहर से पैसों से खरीद रहे हैं. नियम के अनुसार गोल्डन कार्ड धारी को मिलने वाले उस फॉर्म में ही डॉक्टर द्वारा दवा लिखना है, जिससे उन्हें दवा बिलकुल मुफ्त मिले. लेकिन जरा सी अनदेखी गरीब के लिए परेशानी का सबब बन रही है.

hosp1

पीएमसीएच में मरीजों को नहीं मिल रहा आयुष्मान योजना का लाभ, मरीज हैं बेहाल   

परिवार की हालत काफी दयनीय है और उन्हें देखने वाला भी कोई नहीं है. हाल में जब अमर सिंह को ऑपरेशन के लिए दो यूनिट खून की जरूरत थी, तो जेवीएम कार्यकर्ता की मदद से ही उन्हें खून मिल पाया. पीएमसीएच की ओर से उन्हें उस वक्त कोई मदद नहीं मिल पायी थी.

इसे भी पढ़ें – गोमियाः अब लेवी नहीं बल्कि प्रशासनिक एनओसी की वजह से लटक रही हैं योजनाएं

 

 

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: