Corona_UpdatesJharkhandRanchi

मरीज स्टेबल फिर भी आइसीयू बेड छोड़ने को तैयार नहीं

गंभीर मरीजों को बेड उपलब्ध नहीं करा पा रहे डॉक्टर

Ranchi: राजधानी के दूसरे सबसे बड़े कोविड सेंटर सदर हॉस्पिटल में कोरोना के 300 मरीजों का इलाज चल रहा है. जहां पर 60 बेड आईसीयू के है. ये वेंटीलेटर सपोर्टेड बेड कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए है. लेकिन, आईसीयू के कई बेड पर अब स्टेबल हो चुके मरीजों ने भी कब्जा जमा रखा है जबकि उनका ऑक्सीजन लेवल भी घट नहीं रहा है.

फिलहाल उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट की भी जरूरत नहीं है. मॉनिटरिंग करने वाले डॉक्टर उन्हें आइसीयू बेड से ऑक्सीजन सपोर्टेड वार्ड में शिफ्ट करने की अपील कर रहे हैं लेकिन वे अपना बेड खाली करने को तैयार नहीं है. इसका खामियाजा वेटिंग में खड़े मरीजों को भुगतना पड़ रहा है.
ड्यूटी में तैनात डॉक्टरों ने न्यूजविंग को जानकारी देते हुए मदद की गुहार लगाई है. ताकि वे गंभीर मरीजों को आइ सीयू बेड उपलब्ध करा सके.

advt

डॉक्टर पहले भी कर चुके है कंप्लेन

ड्यूटी में तैनात डॉक्टरों ने पहले भी कई बार आईसीयू बेड पर ठीक हो जाने के बाद भी मरीजों द्वारा कब्जे की जानकारी सीनियर अधिकारियों को दी. उस समय कुछ मरीजों को हटाया भी गया क्योंकि उन्हें कोई समस्या नहीं थी और ऑक्सीजन से भी उनका काम चल जा रहा था. लेकिन हॉस्पिटल में फिर से पहले जैसी स्थिति हो गई है और स्थिति ठीक होने के बाद भी मरीज आईसीयू बेड छोड़ने को तैयार नहीं है. उन्हें लग रहा है कि फिर कहीं तबीयत बिगड़ी तो उन्हें बेड मिलेगा या नहीं. इस चक्कर में गंभीर मरीजों को बेड उपलब्ध कराना ड्यूटी डॉक्टर्स के लिए चुनौती बना हुआ है.

सीनियर अधिकारी की भी नहीं सुन रहे मरीज

डॉक्टरों ने बताया कि वेंटिलेटर की जरूरत सीरियस मरीजों को है, जिनका ऑक्सीजन लेवल काफी नीचे जा चुका है. सांस लेने में तकलीफ है तो उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट दिया जाता है. वैसे मरीज जिनका ऑक्सीजन 85 से ऊपर है और केवल ऑक्सीजन के सपोर्ट से ही उन्हें राहत मिल सकती है. अब वैसे मरीज भी आईसीयू बेड पर पड़े हुए हैं. उन्होंने हॉस्पिटल में तैनात कमांडेंट अधिकारियों से भी इसकी शिकायत की लेकिन मरीज सुनने को तैयार नहीं है. यह देखते हुए मरीजों को या तो इंतजार करना पड़ रहा है या फिर कई मरीज हॉस्पिटल की गेट पर ही दम तोड़ दे रहे हैं.

इसे भी पढ़ें:विधानसभा अध्यक्ष ने पुराने विधानसभा परिसर में कोविड अस्पताल बनाने का सरकार को दिया निर्देश

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: