न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वीर बुधु भगत के नाम के शिलापट्ट का किया गया पत्थलगड़ी

397

Ranchi : अरगोड़ा चौक पर अमर शहीद वीर बुधु भगत के नाम से लगी पथलगाडी (स्मृति चिन्ह) को तोड़कर सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास किया गया था. जिसके बाद आदिवासी समाज के लोगों ने एक बार विधि विधान से चूना पत्थर गढ़ी स्थापित किया.

इसे भी पढ़ें- जेपीएससी पर अब तक 33 करोड़ खर्च, फिर भी परिणाम गड़बड़झाला

 कोई भी आदिवासियों की रीति रिवाज के साथ खिलवाड़ ना करें

विदित हो कि कुछ दिन पहले असामाजिक तत्वों के द्वारा वीर बुधु भगत के शिलापट्ट को तोड़ दिया गया था. जिसके फलस्वरुप आदिवासी समाज के लोगों ने रोष प्रकट किया था. तब प्रशासन और आदिवासी समाज की मिली-जुली प्रयास के बाद रविवार की सुबह 11 बजे पुनः वीर बुधु भगत के नाम से पत्थरगड़ी करते हुए चौक का नामकरण आदिवासी विधि-विधान और पारंपरिक तरीके से पाहन के द्वारा किया गया. केंद्रीय सरना समिति के द्वारा इसकी अगुवाई की गई. मौके पर अध्यक्ष अजय तिर्की ने कहा कि कोई भी आदिवासियों के रीति रिवाज, परंपरा, आस्था और संस्कृति के साथ खिलवाड़ ना करें.

इसे भी पढ़ें- पलामू: दो राज्यों की पुलिस का छापा, लोडेड पिस्टल के साथ टीपीसी समर्थक गिरफ्तार 

hotlips top

बीर बुधु भगत से जनता की भावना जुड़ी हुई है

अजय नाथ शाहदेव ने कहा कि झारखंड राज्य आदिवासियों का है, लेकिन वर्तमान सरकार आदिवासियों की संस्कृति परंपरा और आस्था की हिफाजत करने में असफल रही है. मौके पर कांग्रसी नेता व पूर्व शिक्षा मंत्री गीताश्री उरांव ने कहा कि अमर शहीद वीर बुधु भगत का शिलापट को छतिग्रस्त किया गया था. जिसे आज फिर से पुनः स्थापित किया गया है. बीर बुधु भगत से जनता की भावना जुड़ी हुई है. सरकार की तरफ से भी सम्मान चाहते हैं. वीर बुधु भगत की इतिहास पाठ्यक्रम में भी डालने की जरूरत है ताकि भारतीय इतिहास के साथ विश्व के इतिहास में भी उन्हें सही सम्मान मिले.

इसे भी पढ़ें- नियमों को ताक पर रखकर संवेदक बिछा रहे पेवर ब्लॉक ईंट, खोले जा रहे हैं खटाल

30 may to 1 june

आदिवासी समाज भाजपा को कभी भी माफ नहीं करेगी

आदिवासी परिषद के मोतीलाल कच्छप ने घटना की आलोचना किया और कहा कि यह आदिवासियों की पहचान को खत्म करने की साजिश है. इसके लिए आदिवासी समाज भाजपा को कभी भी माफ नहीं करेगी. मौके पर अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद, आदिवासी युवा मोर्चा, आदिवासी छात्र मोर्चा, झारखंड क्रिश्चन यूथ एसोसिएशन, सरना समिति अरगोड़ा और जोहार संगठन के साथ साथ आदिवासी समाज के सैकड़ों लोग उपस्थित थे. वीर बुधु भगत के शिलापट्ट की पत्थलगड़ी कार्यक्रम में मुख्य रूप से संतोष तिर्की,कुलदीप तिर्की,विकास तिर्की,संदीप तिर्की, कुन्दरसी मुंडा,चंपा,अजय उरांव, एंड्रयू ,सन्नी, अजित, आकाश शामिल थे.

इसे भी पढ़ें- मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए हिंदी में आवेदन नहीं लेता RMC, यह राष्ट्रभाषा का अपमान है, हिंदी में भी लें…

 न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like