BusinessMain SliderNational

पतंजलि का यूटर्न, उत्तराखंड आयुष विभाग के नोटिस पर कोरोना की दवा के दावे से पलटा

New Delhi: कोरोना वायरस की दवा तैयार करने का दावा करने वाली बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद अब अपने दावे से पलट गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तराखंड के आयुष विभाग की ओर से जारी नोटिस के जवाब में कहा है कि उसकी ओर से कोरोना को खत्म करने की कोई दवा नहीं बनाई गई है.

ये भी पढ़ें- इंतजार खत्म! चीन से तनातनी के बीच जुलाई में फ्रांस से भारत पहुंचेंगे इतने राफेल विमान

गौरतलब है कि बीते मंगलवार को बाब रामदेव ने ‘कोरोनिल’ नामक दवा लॉन्च किया था और दावा किया था कि यह दवा कोरोना निपटने में सक्षम है. इसके बाद केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने दवा के प्रचार और बिक्री पर रोक लगाने का आदेश दिया था, साथ ही कंपनी से पूरी डिटेल मांगी थी.

ये भी पढ़ें- रेलवे ने शुरू की स्पेशल ट्रेनों के लिए तत्काल टिकट बुकिंग सेवा, जानें कैसे और कहां से करें बुक

24 जून को उत्तराखंड आयुष विभाग ने पतंजलि को नोटिस जारी किया था और 7 दिन के अंदर जवाब मांगा था. यही नहीं, उत्तराखंड के आयुष विभाग के अधिकारी ने बताया था कि पतंजलि को इम्युनिटी बूस्टर तैयार करने का लाइसेंस दिया गया था. लाइसेंस कोरोना की दवा बनाने या तैयार करने की बात नहीं कही गई थी.

ये भी पढ़ें-  … तो इस कारण पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हो रहा इजाफा, धर्मेन्द्र प्रधान ने बताया

गौरतलब है कि कोरोना काल में इस वायरस को रोकने के लिए दुनिया भर करीब 100 से अधिक दवाओं पर काम चल रहा है. लेकिन अब तक किसी को भी फाइनल अप्रूवल नहीं मिला है. वहीं पतंजलि की ओर से दवा तैयार करने के दावे पर आयुष मंत्रालय ने कहा था कि उन्होंने इस तरह का प्रयास किया, ये अच्छी बात है लेकिन नियमों का पालन किया जाना जरूरी है. आयुष मंत्रालय ने कहा था कि कोई भी दवा लॉन्च करने से पहले मंजूरी के लिए मंत्रालय के पास भेजना चाहिए.

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close