ChaibasaJamshedpurJharkhandJharkhand StoryNEWSSaraikela

Jamshedpur : पर्यावरण संरक्षण के जुनून ने सैनिक वाटिका को दिया वजूद, मिलेंगे हर तरह के फलदार और सजावटी पौधेur

Raj Kishor
Jamshedpur : यदि आप सचमुच कुछ अच्छा करने की ठान लें तो तमाम बाधाओं को दूर करते हुए मंजिल प्राप्त करना वास्तव में ज्यादा मुश्किल भी नहीं होता है. इस बात को सच कर दिखाया है सरायकेला – खरसावां जिले के आदित्यपुर निवासी पूर्व सैनिक भूषण सिंह ने. उनमें पर्यावरण संरक्षण का कुछ ऐसा जुनून चढ़ा कि अपने सैनिक वाटिका को नया आकार दे दिया. टाटा-कांड्रा मेन रोड पर रापचा में स्थित यह सैनिक वाटिका फिलहाल सरायकेला-खरसावां जिले की पहली ऐसी नर्सरी बन गयी है, जहां आपको हर तरह के फलदार और सजावटी पौधे मिल जाएंगे. यह वाटिका करीब डेढ़ एकड़ जमीन पर फैला है. इसके हर ओर रंग-बिरंगे सजावटी पौधों से लेकर फलदार पौधे बिखरे पड़े हैं. इससे इस वाटिका की खूबसूरती देखते ही बन रही है. फूल-पौधों के इस बगि‍या को नया आकार देनेवाले भूषण सिंह सरायकेला के पूर्व सैनिकों के कल्याण और उनके अधिकारों को दिलाने के लिए गठित संस्था भूतपूर्व सैनिक कल्याण संघ, सरायकेला के महासचिव भी हैं.

जमशेदपुर मे है दो नर्सरी
बता दें कि लौहनगरी जमशेदपुर में फिलहाल दो नर्सरी है. इसमें एक साकची के बाग-ए-जमशेद के पास है. इस नर्सरी का संचालन जुस्को के जिम्मे है, जबकि बिष्टुपुर में खरकाई ब्रिज से पहले बोधनवाला गैरेज के पास भी एक नर्सरी है. इधर, रपचा के सैनिक वाटिका को इस तरह से बृहत नर्सरी का आकार दिया गया है कि यहां हर तरह के सजावटी से लेकर फलदार पौधे कभी भी और कितना भी किफायती मूल्य पर उपलब्ध हो सकेगा. यदि कोई पौधा यहां उपलब्ध नहीं भी है तो दो दिनों में बाहर से भी लाकर लोगों को उपलब्ध कराया जाएगा.

घाटशिला के प्रसिद्ध प्रमिला नर्सरी का मिला साथ
दरअसल, पूर्व सैनिक भूषण सिंह को इस पूरी मुहिम में घाटशिला के प्रसिद्ध प्रमिला नर्सरी का साथ मिला है. प्रमिला नर्सरी घाटशिला के काशीदा में है. उसकी देशभर में पहचान है. उसी के सहयोग से सैनिक वाटिका को नया आकार देने में पूर्व सैनिक को कामयाबी मिली है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

ये भी पढ़ें- Jharkhand Weather Today: झारखंड के इन नौ ज‍िलों में कुछ देर में होगी जोरदार बार‍िश, मौसम व‍िभाग ने दी ये सलाह

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

Related Articles

Back to top button