न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

चतरा से बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुदेश वर्मा पर पार्टी जता सकती है लोकसभा चुनाव में भरोसा

पत्रकारिता छोड़ बीजेपी ज्वाइन करनेवाले सुदेश वर्मा ने पीएम मोदी पर किताब भी लिखी है.

1,219

Ranchi: लोकसभा चुनाव में झारखंड में क्लीन स्वीप का नारा लेकर मैदान में उतरी बीजेपी के लिए हर सीट मायने रखती है. चतरा भी उन्हीं में से एक है. 2014 में चतरा सीट से सुनील कुमार जीत कर आए थे. लेकिन बीजेपी सांसदों की उस फेहरिस्त में सुनील कुमार सिंह का भी नाम शामिल है जिनमें दोबारा टिकट मिलने पर संकट के बादल हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिरी चतरा से वो दूसरा चेहरा कौन होगा, जो पार्टी को जीत दिला सकता है. पार्टी के दिल्ली कार्यालय तक कई नाम पहुंच रहे हैं. उन्हीं में से एक नाम बीजेपी के मीडिया कमेटी के अध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता सुदेश वर्मा का भी है. सुदेश वर्मा खुद भी लोकल मीडिया में कह चुके हैं कि अगर पार्टी उनपर भरोसा जताती है, तो वो निश्चित तौर पर चुनाव लड़ेंगे.

mi banner add

इसे भी पढ़ेंःकैथोलिक चर्च ने पीएम को भेजे पत्र में कहा- राष्ट्रवाद हर भारतीय के खून में, किसी को साबित करने की जरूरत नहीं

कौन हैं सुदेश वर्मा ?

यूं तो सुदेश वर्मा का चतरा ननिहाल है. लेकिन साथ में चतरा उनका जन्मस्थल भी है. उन्होंने स्कूलिंग भी चतरा से ही की है. पढ़ाई पूरी करने के बाद वो राष्ट्रीय मीडिया में अहम पदों पर रहे हैं. वो न्यूज एक्स (अंग्रेजी चैनल) को भी हेड कर चुके हैं. उन्होंने ही मोदी पर सबसे पहले किताब लिखी कि ‘मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री’. 2014 में बीजेपी की सरकार बनने के बाद उन्होंने पत्रकारिता छोड़ कर बीजेपी ज्वाइन कर ली. कई मीडिया डिबेट में वो देखे जाते रहे हैं.

साथ ही साथ उनका चतरा से लगाव हर वक्त बना रहता है. वो चतरा दौरे पर बराबर रहते हैं. जेएनयू में वो प्रोफेसर के तौर पर क्लास भी ले चुके हैं. साथ में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में वकालत की प्रैक्टिस भी की है. उनके नाना चतरा में डीएसपी रैंक से रिटायर किए थे और मामा आईपीएस अफसर हैं. उनके बड़े भाई एसके वर्मा झारखंड के एडिशनल एडवोकेट जेनरल रह चुके हैं. चतरा से इतना जुड़ाव और बीजेपी में अच्छी पकड़ होने की वजह है, यह कयास लगाया जा रहा है कि चतरा से पार्टी सुदेश वर्मा पर भरोसा जता सकती है.

क्या है चतरा का राजनीतिक समीकरण

2014 के लोकसभा चुनाव में चतरा से बीजेपी के सुनील कुमार सिंह ने कांग्रेस के धीरज प्रसाद साहू को 1,78,029 वोट से हराया था. लेकिन इस बार सुनील कुमार सिंह को टिकट मिले इस पर संशय है. चतरा लोकसभा क्षेत्र में पांच विधानसभा क्षेत्र आते हैं. चतरा, लातेहार, मनिका, सिमरिया और पांकी. चतरा विधानसभा सीट बीजेपी के कब्जे में है. वहां से जय प्रकाश सिंह भोगता विधायक हैं.

लातेहार सीट जेवीएम के कब्जे में है वहां से प्रकाश राम विधायक हैं. मनिका बीजेपी के कब्जे में है. वहां से हरिकृष्ण सिंह विधायक हैं. सिमरिया से जीत तो जेवीएम की हुई थी. लेकिन बाद में गणेश गंझु ने बीजेपी का हाथ थाम लिया था. वहीं पांकी विधानसभा सीट कांग्रेस के कब्जे में है. वहां से बिट्टु सिंह विधायक हैं. कुल समीकरण को देखा जाए तो पांच में से तीन सीट पर कब्जा बीजेपी का है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: