न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पर्रिकर राफेल डील के जरिए प्रधानमंत्री मोदी को ब्लैकमेल कर रहे हैं : जयपाल रेड्डी

रेड्डी ने पूर्व सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने पर्रिकर के इस्तीफे की मांग की और कहा कि वह जोंक की तरह मुख्यमंत्री की कुर्सी से चिपके हुए हैं.

1,403

NewDelhi : मनोहर पर्रिकर मुख्यमंत्री पद की अपनी कुर्सी बचाये रखने के लिए राफेल लड़ाकू विमान सौदा के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहे हैं. यह आरोप कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री जयपाल रेड्डी ने गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर पर लगाया है. कहा कि वह राफेल डील पर मोदी को ब्लैकमेल करा कर रहे हैं. रेड्डी ने मडगांव में पार्टी की जन आक्रोश रैली के समापन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही.  रेड्डी ने पूर्व सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने पर्रिकर के इस्तीफे की मांग की और कहा कि वह जोंक की तरह मुख्यमंत्री की कुर्सी से चिपके हुए हैं. प्रदेश प्रमुख गिरीश चोडंकर, गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत, रवि नाईक, फ्रांसिस्को सरदिन्हा एवं कांग्रेस के अन्य नेताओं की मौजदूगी में रेड्डी ने कहा, पर्रिकर नैतिकता की बात करते हैं, लेकिन श्रीमान मनोहर पर्रिकर  के जोंक की तरह कुर्सी से चिपके रहने में क्या नैतिकता है? इस क्रम में उन्होंने कहा, मैं जानता हूं कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्लैकमेल करने की स्थिति में हैं. क्या वह मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए प्रधानमंत्री को ब्लैकमेल कर रहे हैं? हमें इस पर सोचने की जरूरत है.

कांग्रेस राफेल मुद्दे पर बेवजह कोशिश कर रही है

गोवा में शासन की बहाली की मांग को लेकर कांग्रेस पूरे राज्य में जनाक्रोश रैली का आयोजन कर रही है.  पार्टी का दावा है कि पर्रिकर की खराब सेहत के कारण प्रशासन के कामकाज पर असर पड़ा है;  रेड्डी के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा ने कहा कि  SC द्वारा इस संबंध में फैसला सुनाये जाने के बाद भी कांग्रेस राफेल मुद्दे पर बेवजह कोशिश कर रही है. SC ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीद मामले में 14 दिसंबर को पीएम नरेंद्र मोदी सरकार को क्लीनचिट दे दी थी और इस सौदे में कथित अनियमितताओं के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को प्राथमिकी दर्ज करने के लिए निर्देश देने की मांग वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया था. SC ने कहा कि अरबों डॉलर के राफेल सौदे में फैसला लेने की प्रक्रिया पर संदेह करने की कोई वजह नहीं है;  बता दें कि गोवा के मुख्यमंत्री के तौर पर कार्यभार ग्रहण करने से पहले पर्रिकर मोदी कैबिनेट में रक्षा मंत्री थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: