JharkhandKoderma

दुर्गापूजा के दौरान जन्मीं छह बच्चियों के माता-पिता, दादा-दादी और नाना-नानी को किया गया सम्मानित

  • कन्या भ्रूण संरक्षण के अपने राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच ने किया सम्मानित

Koderma : अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच के राष्ट्रीय कार्यक्रम कन्या भ्रूण संरक्षण के तहत कोडरमा और झुमरीतिलैया शहर के अलग-अलग अस्पतालों में दो चरणों में 11 बच्चियों को भेंट देकर सम्मानित किया गया. दुर्गापूजा के मौके पर दूसरे चरण में शहर के शुभ-लाभ हॉस्पिटल, केयर हॉस्पिटल, ओम हॉस्पिटल में छह बच्चियों के जन्म पर उनके माता-पिता, दादा दादी और नाना-नानी को बुधवार को सम्मानित किया गया.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ें – 1 नवंबर से घुड़सवारी ट्रेल राइड की होगी शुरुआत, घुड़सवारी खेल को मिलेगा बढ़ावा

मंच के इस कदम की हुई सराहना

डॉ अनुपम टोप्पो ने कहा कि नवरात्र के मौके पर बच्चियों के जन्म पर इस प्रकार मारवाड़ी युवा मंच का बच्चियों और उसके अभिभावकों को सम्मानित करना सराहनीय कार्य है. इस तरह का कार्यक्रम समाज के हर वर्ग के लोगों के बीच बहुत ही अच्छा उदाहरण बनता है. जिस तरह लोग बेटों के जन्म पर उत्सव मनाते हैं, हमें बेटियों के जन्म पर भी इसी प्रकार उत्सव मनाकर उनका मान बढ़ाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि बच्चियां शक्ति का रूप होती हैं. नवरात्र में नवमी के दिन नौ कन्याओं के पूजन का प्रचलन है. ऐसे में आज के इस समय में जिनके घर में कन्या का जन्म होता है, वह और उनका परिवार भाग्यशाली है. कन्या भ्रूण हत्या महापाप है.

Samford

कार्यक्रम के परियोजना निदेशक अमित अग्रवाल ने कहा कि अगर हम बच्चियों को जन्म ही नहीं लेने देंगे, तो औरत शब्द का अस्तित्व ही समाप्त हो जायेगा. बच्चियों के जन्म पर उत्सव मनायें और सरकार एवं स्वयंसेवी संगठनों (मारवाड़ी युवा मंच) द्वारा जो कल्याणकारी योजनाएं संचालित हो रही हैं, इसका भी लाभ लें.

इसे भी पढ़ें – रांची विश्वविद्यालय की स्नातक फाइनल ईयर की परीक्षा गुरुवार से

बेटियों को बेटों से कम नहीं आंकना चाहिए : संदीप

मंच के अध्यक्ष संदीप हिसारिया, सचिव उमंग अग्रवाल, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के शाखा संयोजक प्रदीप हिसारिया, महावीर खेतान ने कहा कि आज के इस दौर में बेटियों को हमें बेटों से कम नहीं आंकना चाहिए. बेटियां अंतरिक्ष में भी जा चुकी हैं, राष्ट्रपति के पद पर भी जा चुकी हैं. आज उपायुक्त, आयुक्त, डॉक्टर, नर्स, जज, वकील, सांसद, विधायक और भी बहुत से पदों पर बेटियां विराजमान हैं.

बच्ची के पिता बोले- माता के रूप में आयी है मेरी यह पहली संतान

वहीं, बच्ची के पिता आकाश वर्णवाल ने कहा, “मेरी यह पहली संतान है, जो माता के रूप में आयी है. मैं इसका नाम माता के किसी रूप के नाम पर ही रखूंगा. मारवाड़ी युवा मंच के इस कार्यक्रम से बेटियों के प्रति और भी सम्मान जागृत हो गया है.” मौके पर डॉक्टर, हॉस्पिटल के कंपाउंडर और नर्स मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – हेमंत बोले- लाठी डंडे से भगायेंगे बीजेपी को, भड़की भाजपा, चुनाव आयोग से की शिकायत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: