न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पारालिंपिक एसोसिएशन झारखंड नहीं उभार रहा विश्व स्तर का खिलाड़ी

राष्ट्रीय पारालिंपिक एसोसिएशन की साइट पर झारखंड के सिर्फ सात खिलाड़ियों के होने की पुष्टि

81
बिहार के नि:शक्तता आयुक्त की तरफ से संचालित संस्थान भी हाशिये पर

Ranchi : दिव्यांग जनों के लिए आयोजित होनेवाले पारालिंपिक में झारखंड के कुछ गिने-चुने खिलाड़ी ही हिस्सा ले पा रहे हैं. 18वें पारा ओलंपिक खेल में झारखंड के सात खिलाड़ी ही राज्य का प्रतिनिधित्व कर पाये. इस सिलसिले में बिहार के नि:शक्तता आयुक्त डॉ शिवाजी कुमार की ओर से संचालित संस्थान स्पर्श देवघर, चाईल्ड कंसर्न रांची, इंडियन स्पोर्ट्स फेडरेशन फोर सेरेब्रल पल्सी कोडरमा की तरफ से विभिन्न खेल प्रतिस्पर्द्धाओं का आयोजन कर राष्ट्रीय खेल के लिए खिलाड़ियों का चयन करने का कई बार दावा भी किया गया. संस्थान के दावे अब हाशिये पर हैं. इन पर सवाल भी खड़े हो रहे हैं.

कई आयोजन किये गये हैं दिव्यांग जनों के नाम पर

पारालिंपिक एसोसिएशन की तरफ से कई स्पर्द्धाएं आयोजित करने का दावा किया गया है. 20 नवंबर 2015 में कडरू रांची में झारखंड पैरेंट्स एसोसिएशन और पारालिंपिक कमेटी ऑफ झारखंड की ओर से प्रतिभाओं के चयन को लेकर प्रतियोगिता आयोजित की गयी. इसके बाद रामगढ़ में 2016 में तथा दुमका में 2017 में भी पारालिंपिक एसोसिएशन ने स्पर्द्धाएं आयोजित की. रांची में आयोजित प्रतिस्पर्द्धा का स्थानीय दिव्यांग जनों ने काफी विरोध भी किया था. इसके बाद से दिव्यांग जनों के लिए आयोजित की जानेवाली स्पोर्ट्स गतिविधियां रांची में आयोजित करना बंद कर दी गयी. देवघर में 17वां झारखंड स्तरीय स्टेट पारा एथेलेटिक्स चैंपियनशिप आयोजित की गयी. यह स्पर्द्धा मार्च 2018 में आयोजित की गयी. इस प्रतियोगिता में पंचकुला हरियाणा में आयोजित होने वाली 18वीं राष्ट्रीय स्पर्द्धा के लिए 50 प्रतिभागियों का चयन करने की बातें कही गयी. प्रतियोगिता के स्पांसरशिप में स्पर्श संस्थान देवघर का नाम था. इसमें इंडियन पारालिंपिक एसोसिएशन के सचिव के रूप में डॉ शिवाजी कुमार ने भी शिरकत की थी. जिले के उपायुक्त समेत अन्य अधिकारियों ने खेल का उदघाटन किया, जिसमें पारालिंपिक एसोसिएशन झारखंड की ऊषा मानकी और सुनील कुमार मिश्रा विशेष रूप से मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंःCBI विवादः IRCTC घोटाले में निदेशक वर्मा ने लालू प्रसाद के खिलाफ…

पारालिंपिक एसो. झारखंड में डमी हैं ऊषा मानकी, सुनील कुमार

पारालिंपिक एसोसिएशन झारखंड के अध्यक्ष संजय मिश्रा, ऊषा मानकी और सुनील कुमार मिश्रा डमी पदधारी हैं. यह संस्थान डॉ शिवाजी कुमार की ओर से पूरी तरह संचालित की जाती है. इन्होंने बिहार के नि:शक्तता आयुक्त का पदभार ग्रहण करने के पहले कमेटी में इन लोगों को जगह दिलवा दी थी. यहां यह बताते चलें कि पारालिंपिक कमेटी बिहार में डॉ शिवाजी कुमार और अजीत झा अब भी पदधारी हैं. राष्ट्रीय स्तर पर राज्यों की कमेटी 2015 में गठित की गयी थी, जिसका कार्यकाल 2019 तक है.

palamu_12

इसे भी पढ़ेंःबकोरिया कांडः जब मुठभेड़ फर्जी नहीं थी, तो सीबीआई जांच से क्यों डर…

राष्ट्रीय पारालिंपिक एसोसिएशन के डाटा बेस में 1018 खिलाड़ी

राष्ट्रीय पारालिंपिक एसोसिएशन के डाटाबेस में देश भर में दिव्यांग जनों के 1018 खिलाड़ियों के होने का जिक्र है. ये एसोसिएशन के डाटाबेस में नामांकित खिलाड़ियों के आधार पर तैयार किये गये हैं. इसमें ही झारखंड से सिर्फ आठ खिलाड़ियों के होने की बातें कही गयी हैं. कुल खिलाड़ियों में दिव्यांग जन के पुरुष खिलाड़ियों में 753 और 265 महिला खिलाड़ियों के इनरोलमेंट की बातें कही गयी हैं. ह्वील चेयर खिलाड़ियों की सूची में पुरुषों की संख्या 58 और महिलाओं की संख्या 27 बतायी गयी है. झारखंड में एक भी ह्वीलचेयर खिलाड़ी नहीं हैं.

इसे भी पढ़ेंःऐसी है झारखंड की विकास गाथा : केंद्र ने 14वें वित्त आयोग के पहले…

झारखंड पारालिंपिक एसोसिएशन का साइट खुलता नहीं

झारखंड पारालिंपिक एसोसिएशन का वेबसाइट झारखंडपारालिंपिक.ओआरजी खुलता ही नहीं है. सिर्फ फेसबुक पर एसोसिएशन की गतिविधियों की जानकारी दी जाती है. इतना ही नहीं इसमें पूर्व में दिव्यांग खिलाड़ियों के लिए आयोजित की जानेवाली गतिविधियों की ही जानकारी दी जाती हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: