न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मानदेय नहीं मिलने से परेशान पारा शिक्षक ने की आत्मदाह की कोशिश, डीसी ऑफिस के सामने हंगामा 

687

Dhanbad: झारखंड में पारा शिक्षक अपनी उपेक्षाओं से बेहाल है. मानदेय नहीं मिलने से परेशान पारा शिक्षकों ने एकबार फिर सरकार-प्रशासन के खिलाफ बिगूल फूंक दिया है.

धनबाद में इसकी बानगी देखने को मिली, जहां विगत छह माह से बकाये मानदेय भुगतान नहीं होने की स्थिति में जिले के पारा शिक्षक आत्मदाह करने डीसी कार्यालय पहुँच गये.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंःपुलिस दबिश में आरोपी राजेन्द्र का आत्मसमर्पण, सुलह पर जमानत

सरकार के खिलाफ नारेबाजी

हालांकि, इसकी सूचना पुलिस-प्रशासन को मिली. डीएसपी विधि व्यवस्था मुकेश कुमार अपने दलबल के साथ डीसी कार्यालय पहुंचे. और पारा शिक्षक को हिरासत में लेकर थाना ले आयी. मुकेश कुमार के मुताबिक आत्मदाह करने की कोशिश करने वाले पारा शिक्षक पर क़ानूनी कार्रवाई होगी.

इधर बेबस और लाचार पारा शिक्षकों की अगुवाई कर रहे संघ के सचिव मो0 शेख सिद्दिकी ने कहा कि राज्य सरकार की कुम्भकर्णी निंद्रा को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है. पारा शिक्षक स्कूलों में निरंतर सेवा दे रहे हैं.

बावजूद इसके पिछले छह माह से पारा शिक्षकों का मानदेय बकाया है. इस परिस्थिति में पारा शिक्षक का परिवार आज भुखमरी के कगार पर आ पंहुचा है. पेट की आग ने आज शिक्षकों को एक बार फिर आंदोलन पर जाने के लिए विवश कर दिया है.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ेंःजमीन दलाल की फॉर्चूनर, पूर्व ट्रैफिक SP संजय रंजन, सिमडेगा SP और पूर्व DGP डीके पांडेय का क्या है कनेक्शन !

दूसरी तरफ पारा शिक्षकों का मानदेय 7 से 8 हजार रुपये मासिक है. आज के दौर में इतने कम मानदेय पर भी पारा शिक्षक काम कर रहे है. इसके बावजूद राज्य सरकार नियमित रूप से मानदेय का भुगतान नहीं कर रही है.

पारा शिक्षकों में सरकार के खिलाफ रोष है. ईद जैसे पर्व में भी पारा शिक्षकों पर सरकार तरस नहीं खा रही है. ऐसी परिस्थिति में राज्य भर के पारा शिक्षक एक बार पुनः जोरदार आंदोलन के लिए बाध्य है. धनबाद डीसी ऑफिस के सामने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की गयी.

ज्ञात हो कि इससे पहले पलामू में भी मानदेय नहीं मिलने से परेशान पारा शिक्षक ने आत्मदाह करने की कोशिश की थी.

इसे भी पढ़ेंःTMC नेताओं के BJP में शामिल होने को लेकर डैमेज कंट्रोल में जुटी पार्टी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like