DeogharJharkhandLead News

देवघर स्थित बाबा मंदिर में विधि-विधान से संपन्न हुई पंचशूल की पूजा

शिवरात्रि पर नहीं निकलेगी बाबा की बारात, श्रद्धालुओं की स्वागत के लिये डीएमसी तैयार

Deoghar: महाशिवरात्रि के एक दिन पूर्व यानि फाल्गुन मास कृष्ण पक्ष त्रयोदशी तिथि के अवसर पर बुधवार को देवघर स्थित बाबा वैद्यनाथ, माता पार्वती सहित अन्य मंदिरों के शिखर से उतारे गए सभी पंचशूलों की विशेष सामूहिक पूजा की गई. तीर्थ पुरोहितों की उपस्थिति में विधि-विधान से पंचशूल पूजा संपन्न हुई. पूजा में बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए.

पंचशूल पूजा के बाद सबसे पहले बाबा वैद्यनाथ और माता पार्वती मंदिर के शिखर पर पंचशूलों को वापस लगाए जाने की परंपरा रही है. इस विशेष पूजा के बाद बाबा और पार्वती मंदिरों के बीच प्रथम गठबंधन भी कराया जाता है. इसी क्रम में अन्य सभी मंदिरों के शिखरों से उतारे गए पंचशूलों को फिर से लगाया जाता है.ज्ञात हो कि बाबा वैद्यनाथ और माता पार्वती मंदिर के शिखर से पंचशूलों को उतारे जाने के बाद दोनों मंदिरों के बीच गठबंधन भी बंद हो जाता है.

इसके पूर्व मंगलवार को हजारों श्रद्धालुओं की उपस्थिति में बाबा बैद्यनाथ और माता पार्वती मंदिर के शिखरों से पंचशूलों को उतारा गया था. पंचशूलों को उतारे जाने के बाद दोनों का गठबंधन कर प्रशासनिक भवन में सुरक्षित रख दिया गया था. फाल्गुन मास कृष्ण पक्ष पंचमी तिथि से भगवान गणेश मंदिर से शुरू किए गए पंचशूल खोलने का काम एकादशी तिथि को संपन्न हो गया था.

Sanjeevani

तीर्थपुरोहितों ने बताया कि बाबा मंदिर प्रांगण अवस्थित सभी 22 मंदिरों के शिखरों से पंचशूल परंपरानुसार उतार लिए गए थे, जिन्हें सामूहिक पूजा के बाद पुर्नस्थापित किया जाता है. साथ ही, पूजा के बाद सबसे पहले गणेश मंदिर उसके बाद बाबा पार्वती मंदिर फिर अन्य मंदिरों में पंचशूल लगाया जाता है। इसके बाद आम भक्तों द्वारा गठबंधन चढ़ाने का सिलसिला शुरू हो जाता है.

डीएमसी श्रद्धालुओं का स्वागत व सुविधा देने को तैयारः नगर आयुक्त

वहीं दूसरी ओर 27 साल के इतिहास में पहली बार कोरोना की वजह से शिवरात्रि के मौके पर बाबा की बारात नहीं निकलेगी. बावजूद इसके बाबा के विवाह मौके पर महाशिवरात्रि पर्व में शामिल होने बाबाधाम पहुंचने वाले शिव भक्तों का स्वागत करने व उन्हें हर संभव सुविधा पहुंचाने को देवघर नगर निगम (डीएमसी) तैयार है.

नगर आयुक्त सह प्रशासक शैलेन्द्र कुमार लाल खुद व्यवस्था संभाल रहे हैं. मेला क्षेत्र बीएड कालेज, तिवारी चौक, जलसार रोड़, मानसिंघी, शिवगंगा व बाबा मंदिर क्षेत्र आदि का भ्रमण कर नगर आयुक्त ने व्यवस्था का जायजा लिया. साथ ही डीएमसी की ओर से बाबा मंदिर क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने का भी काम किया गया. नगर आयुक्त सह प्रशासक ने कहा कि बाबाधाम पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को ध्यान में रखते हुए पानी, बिजली व सफाई की व्यवस्था दुरुस्त कर ली गयी है.

Related Articles

Back to top button