JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

पंचायत चुनावः झारखंड में कम होंगे 57 मुखिया, नगर की सरकार में होगा इजाफा

Ranchi: इसी साल नवंबर-दिसंबर में राज्य में पंचायत चुनाव होने की संभावना दिख रही है. सरकार ने इसकी घोषणा भी कर दी है. ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने 20 जून को भी कहा था कि अगर कोरोना की स्थिति नियंत्रण में रही तो इस साल के आखिर तक पंचायत चुनाव करा लिये जायेंगे. उधर, राज्य निर्वाचन आय़ोग अपनी तैयारियों को अंजाम देने में लगातार आगे बढ़ रहा है. परिसीमन का काम तकरीबन पूरा हो गया है. इससे पूरी संभावना बन गयी है कि अबकी राज्य में 57 मुखिया घटेंगे. पिछली बार 4402 पंचायतों के लिये त्रिस्तरीय चुनाव हुए थे. इस बार 4345 पंचायतों के लिये चुनाव होंगे.

बढ़ेगी नगर सरकार

मिली जानकारी के मुताबिक परिसीमन के क्रम में कई गांव अब नगरपालिका में शामिल हो गये हैं. इससे गांवों की संख्या में कमी आय़ी है. यानि नगर की सरकार में इजाफा होगा. 2011 की जनगणना के आधार पर पिछली बार 2015 में पंचायत चुनाव कराये गये थे. उस दौरान 24 जिलों में 263 प्रखंडों में 4402 पंचायतों के लिये चुनाव कराये गये थे. इस दौरान 4402 मुखिया, 54330 वार्ड सदस्यों के लिये चुनाव कराये गये थे. पंचायत समिति की संख्या 5423 थी. जिला परिषदों की संख्या 545 तय की गयी थी. आयोग ने कुल 1,72,47,830 मतदाताओं को वोट के लिये शॉर्टलिस्टेड किया था. 54298 मतदान केंद्र बनाये गये थे. इसके अलावा 32 चलंत मतदान केंद्र तय किये गये थे. मतदान भवनों की संख्या 34497 थी.

इसे भी पढ़ेंःकोरोना से झारखंड में 5000 से अधिक लोगों ने गंवाई जान, कांग्रेस ने कहा- सबको मिले मुआवजा  

इस बार 4345 पंचायतों के लिये चुनाव होंगे. वार्ड सदस्यों की संख्या 54320 रहेगी. हालांकि पंचायत समितियों की संख्या पूर्व की तरह 5423 और जिला परिषद की संख्या 545 ही रहेगी. प्रखंडों की संख्या अबकी 263 की बजाये 264 होगी. अगर राज्य चुनाव आय़ोग की मानें तो अगस्त-सितंबर के दौरान 14 नगरपालिकाओं के चुनाव संपन्न करा लिये जायेंगे. हालांकि, कोरोना संक्रमण की तत्कालीन स्थिति को देखते हुए ही इसे तय किया जायेगा. इसके बाद ही पंचायत चुनाव के लिये तैयारियों को अंजाम दिया जायेगा.

advt

जिन जिलों में परिसीमन के चलते घट रही पंचायत

राज्य निर्वाचन आय़ोग ने इसी साल मार्च में कई जिलों के डीसी को लेटर लिखा था. इसमें उन्हें प्रादेशिक, क्षेत्रीय निर्वाचन क्षेत्रों के गठन, परिसीमन और संख्यांकन से संबंधित फॉर्मेट प्रारुप के अनुरूप कार्य किये जाने को कहा था. इनमें पलामू, चतरा, कोडरमा, गिरिडीह, गोड्डा, साहेबगंज, पश्चिमी सिंहभूम, हजारीबाग और सरायकेला खरसावां शामिल हैं. मतलब इन जिलों में ही अधिक संभावना है कि पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत की संख्या कम दिखेगी.

इसे भी पढ़ेंःएडीजी अनिल पालटा के नेतृत्व में एसआइटी करेगी रेमडेसिविर मामले की जांच

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: