JamshedpurJharkhand

पंचायत चुनाव-2022 : प्रशिक्षण में शामिल नहीं होने वाले पदाधिकारियों पर भड़के डीसी-कहा सख्त कार्रवाई होगी

Jamshedpur : सरायकेला-खरसावां जिले में पंचायत चुनाव को लेकर प्रशासनिक तैयारियां जोरों पर है. चुनाव के सफल संचालन को लेकर पदाधिकारियों एवं प्रतिनियुक्त मतदान कर्मियों को प्रशिक्षण देने का दौर जोरशोर से चल रहा है. इस बीच कई पदाधिकारी और मतदान कार्य के लिये प्रतिनियुक्त कर्मचारी प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग नहीं ले रहे हैं. गुरुवार को भी जिला समहरणालय सभागार में मतदान पदाधिकारियों के अलावा एआरओ, इआरओ एवं संबंधित कंप्यूटर ऑपरेटरों को प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया. इस दौरान भी कई पदाधिकारी और कर्मचारी गायब रहें. इस मामले को सरायकेला-खरसवां के जिला निर्वाचन पदाधिकारी पंचायत सह उपायुक्त अरवा राजकमल ने गंभीरता से लिया है. उन्होंने कहा कि ऐसे पदाधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ नियमानुसार सख्त कार्रवाई की जाएगी. साथ ही, जिन मतदानकर्मियों ने 10 मई और 11 मई को एनआर प्लस-टू हाई स्कूल में आयोजित प्रशिक्षण में भाग नहीं लिया है उनके खिलाफ भी विभागीय कार्यवाही की जाएगी.

चांडिल अनुमंडल के चुनाव को लेकर भी सख्ती

इसके साथ ही जिला प्रशासन ने 14 मई को चांडिल अनुमंडल में होनेवाले पहले चरण के चुनाव को लेकर भी प्रतिनियुक्त पीठासीन पदाधिकारियों एवं मतदानकर्मियों के खिलाफ सख्ती दिखायी है. इस चुनाव को लेकर 13 मई को सरायकेला के काशीसाहू कॉलेज में पदाधिकारियों और मतदानकर्मियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया जायेगा. इसे लेकर सुबह छह बजे उन्हें निर्धारित स्थल पर उपस्थित होने का आदेश जारी किया गया है. ऐसा नहीं होने पर उन पर नियमानुसार कार्यवाही की चेतावनी दी गई है.

जिला स्तर पर तैयार सॉफ्टवेयर कर्मियों की करेगा मदद

इधर गुरुवार को हुये प्रशिक्षण कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला प्रशिक्षण कोषांग के वरीय पदाधिकारी सुबोध कुमार ने की. उन्होंने प्रशिक्षण में भाग लेनेवाले मतदान पदाधिकारियों समेत एआरओ, इआरओ एवं संबंधित कंप्यूटर ऑपरेटरों को चुनाव की बारिकियों से अवगत कराया. साथ ही बताया कि जिला स्तर पर सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है. इससे चुनाव से संबंधित कार्य मे काफी सहूलियत होगी.

मास्टर ट्रेनर्स ने कर्मियों को दिया गहन प्रशिक्षण

मौके पर मतदान कार्य में लगे कर्मियों को मास्टर ट्रेनर्स ने निर्वाचन कार्य को लेकर गहन एवं सूक्ष्म दिये. इसमें मतों की काउंटिंग, प्रमुख मतगणना सामग्री, मतगणना टेबलों की संख्या और उनकी व्यवस्था, मत पेटी को खोले जाने की प्रक्रिया, मतों की गणना के बाद मतपत्रों को सुरक्षित रखना, निर्वाचन परिणाम की विवरणी प्रपत्र 19,20 एवं 21 में तैयार किया जाना, निर्वाचन परिणाम की घोषणा मतों की गणना के पश्चात मतपत्रों की सुरक्षित अभिरक्षा, पदाधिकारी के कर्तव्यों, उनके त्रुटिरहित मतदान संपादन, मतदान के पूर्व, मतदान के दौरान एवं मतदान के बाद संपादित की जाने वाली आवश्यक व्यवस्थाओं तथा संपन्न किए जाने वाले कार्यों की सूक्ष्म तथा गहन जानकारी कर्मियों को प्रदान की गई. साथ ही प्रशिक्षुओं को मतदान सामग्री की जानकारी, उसके उपयोग, मतदान के बाद मतदान सामग्री जमा करने की प्रक्रिया तथा प्रपत्र जमा करने की प्रक्रिया से भी अवगत कराया गया. ताकि वे सभी कार्यों का सफल संचालन कर सके.

इसे भी पढ़ें: सहारा इंडिया पर हाइकोर्ट हुआ सख्त, चेयरमैन के उपस्थित न होने पर जतायी नाराजगी

Advt

Related Articles

Back to top button