JharkhandLead NewsNationalNEWSPalamuTOP SLIDER

पलामू की 14 माह की बेटी सृष्टि को जिंदा रहने के लिए चाहिए 14 करोड़ का इंजेक्शन

पिता ने सरकार से लगाई मदद की गुहार, स्पाइनल स्कुलर एट्राफी बीमारी है पीड़ित

Palamu: कुछ दिन तक पूर्व मुंबई की पांच वर्षीय बच्ची तीरा कामत चर्चा में रही. बेहद गंभीर बीमारी से पीड़ित इस बच्ची को इलाज के लिए 22 करोड़ कीमत वाले इंजेक्शन की दरकार थी. इंजेक्शन की कीमत सुन तीरा के माता-पिता के होश फाख्ता हो गये. फिर कुछ सोशल साइट्स की मदद से पैसा कलेक्‍ट करने का कैंपेन शुरू हुआ और 90 दिन के अंदर 16 करोड़ रुपए इकट्ठा कर लिए गए. कुछ इसी तरह के इंजेक्शन की जरूरत आन पड़ी है पलामू की 14 माह की बच्ची सृष्टि रानी को. जिसकी कीमत 14 करोड़ है.

 

सृष्टि रानी पलामू जिले के पाटन थाना क्षेत्र अंतर्गत कांके कला सिक्की गांव निवासी सतीश कुमार रवि की बेटी है. सृष्टि स्पाइनल मस्कुलर एट्राफी बीमारी से जूझ रही है. डेढ़ माह से उसका इलाज छत्तीसगढ़ के बिलासपुर स्थित अपोलो अस्पताल के एनआइसीयू में चल रहा है. सतीश रवि छत्तीसगढ़ एसइसीएल में कार्यरत हैं. हाल में सीएमसी वेल्लोर में जब बच्ची की जांच कराई गयी तब पता चला कि वह स्पाइनल मस्कुलर एट्राफी बीमारी से पीड़ित है.

advt

 

बताया गया है कि इसका इलाज सबसे महंगे इंजेक्शन जोल्जेंसमा से ही है. कीमत करीब 14 करोड़ रुपये है. इस दवाई को अमेरिका से आयात करना पड़ता है. सृष्टि के पिता यह सोचकर परेशान हैं कि आखिर पैसे का इंतजाम कैसे होगा. उन्होंने सरकार से सहयोग की अपील की है. वह चाहते हैं कि झारखंड सरकार उसकी मदद करे और उनकी परी समान बेटी की किलकारी गूंजे. मालूम हो कि तीरा कामत मामले में केंद्र सरकार ने दवाई पर छह करोड़ का टैक्स माफ किया था. जिस वजह से 22 करोड़ कीमत वाला इंजेक्शन 16 करोड़ में मिल पाया था.

adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: