JharkhandLead NewsPalamu

पलामू: जिसे समझा जा रहा था यूपीएससी में सफल, वह निकला फेल, जानिए कैसे हुई गलतफहमी

Palamu: पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के आबादगंज निवासी अविनाश कुमार का यूपीएससी परीक्षा में चयन नहीं हुआ है. बिहार और झारखंड के दो कैंडिडेट का एक ही नाम अविनाश कुमार रहने के कारण कंफ्यूजन हुआ और शुक्रवार की रात से शनिवार की शाम तक सोशल मीडिया पर मेदिनीनगर के अविनाश के यूपीएससी में चयन होने की खबर प्रसारित होती रही. शनिवार की शाम कॉल कर के अविनाश ने सभी मीडिया प्रतिनिधियों से माफी मांगी और कहा कि दोस्त ने गलती से उसके चयन होने की जानकारी दे दी थी. उसने उसे विश्वास में लेकर ऑनलाइन चेक नहीं किया और खबर प्रसारित कर दी.

सोशल मीडिया से लगातार डिलिट हो रहा है बधाई मैसेज

मेदिनीनगर के आबादगंज निवासी अविनाश कुमार का यूपीएससी परीक्षा में चयन होने की खबर कुछ मीडिया व्हाट्एस ग्रुप में आने के बाद सोशल मीडिया पर बधाई संदेश का दौर चल पड़ा था. शनिवार शाम जैसे ही पुनः मैसेज मिला कि मेदिनीनगर का अविनाश का यूपीएससी परीक्षा में चयन नहीं हुआ है, सारे लोग अपने अपने बधाई मैसेज डिलिट करने लगे. खबर लिखे जाने तक यह सिलसिला चल रहा है.

औरंगाबाद के अविनाश का हुआ है चयन

दिल्ली से फोन कर मेदिनीनगर के अविनाश ने सभी पत्रकारों को बताया कि उसका चयन यूपीएससी की परीक्षा में नहीं हुआ है. बिहार के औरंगाबाद जिले के गोह के अविनाश कुमार ने 190वां रैंक लाया है.

advt

कल रात यूपीएससी का रिजल्ट सामने आने पर उसके एक दोस्त ने फोन कर बताया कि उसका चयन यूपीएससी में हो गया है. उसे आईपीएस के लिए चयन किया गया है. उसने अपना रौल नंबर चेक किए बगैर दोस्त की बातों को विश्वास में लेकर मैसेज वायरल कर दिया. लेकिन बाद में पुनः एक दोस्त ने फोन कर बताया कि उसका चयन यूपीएससी परीक्षा में नहीं हुआ है. इसके के बाद उसके होश उड़ गए. तबतक वह कई मीडिया घरानों को अपने संघर्ष पर इंटरव्यू दे चुका था.

यूपीएससी परीक्षा में पहली बार शामिल हुआ था पलामू का अविनाश

मेदिनीनगर के अविनाश कुमार यूपीएससी की परीक्षा में पहली बार शामिल हुआ था. मेदिनीनगर सदर प्रखंड के रजवाडीह स्थित जीजीपीएस स्कूल से मैट्रिक, लातेहार के बरवाडीह स्थित मेदिनी राय इंटर कालेज से आइएससी और मेदिनीनगर स्थित जीएलए कालेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की. 2018 में अंग्रेजी आनर्स से स्नातक उत्तीर्ण करने के बाद दिल्ली चला गया. जेपीएससी की परीक्षा देने के लिए पलामू आया था. सतबरवा स्थित राजकीय कृत सर्वोदय उच्च विद्यालय में उसका परीक्षा केंद्र था. अविनाश के पिता गुलाबचंद का निधन 2015 में ही हो गया है. उसका नाना का घर बरवाडीह में है. मेदिनीनगर के आबादगंज सहित बरवाडीह में नाना के घर भी जश्न का माहौल था, लेकिन जैसे ही यह मामला सार्वजनिक हुआ, सभी मायूस हो गए हैं.

adv

इसे भी पढ़ें – IAS साहब! हम आज आपके रिजल्ट पर हर्षित हैं, कुछ ऐसा कीजिएगा कि कल आपके नायकत्व पर गर्वित हों

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: