JharkhandPalamu

पलामू : सील हटाए बिना निर्माणाधीन स्थल से कीमती सामान ढोए गए, नगर निगम और पुलिस बना है अंजान

Palamu : पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के निगम क्षेत्र के वार्ड नंबर 22 में निर्माणाधीन एक बहुमंजली इमारत में सील हटाए बिना सामानों को हटाने का सिलसिला जारी है. पिछले 48 घंटे से यहां लगे सरिया और शटरिंग का सामान दिन के उजाले में वाहन लगाकर ढोए जा रहे हैं, लेकिन निगम के पदाधिकारी और पुलिस अंजान बने हुए हैं.

विदित हो मेदिनीनगर के चर्चित स्वर्ण व्यवसायी राम नरेश सोनी द्वारा उपरोक्त जगह प बहुमंजली इमारत बनायी जा रही थी. कुछ वर्ष पहले बिना नक्शा पास कराए और लीज नवीकरण के बिना बहुमंजिला इमारत बनाए जाने के कारण मेदिनीनगर की मेयर अरूणा शंकर के निर्देश पर तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी अजय साव ने मजिस्ट्रेट और पुलिस की मौजूदगी में निर्माणाधीन स्थल को सील कर दिया था.

लंबे चैड़े भूभाग पर उस समय पीलर खड़ा कर दिया गया था और शटरिंग कर सरिया बांधा गया था. सील एरिया की घेराबंदी कर बोर्ड लगा दिया गया था.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :छह आइएएस अधिकारियों का तबादला, केके सोन बने कल्याण सचिव, के श्रीनिवासन परिवहन सचिव

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इधर दो दिनों से सील किए गए निर्माणाधीन एरिया को गुप चुप तरीके से सामनों को हटाया खाली किया जा रहा है. नियमानुसार अगर सील खोली जाती तो जस की तस अवस्था में नगर आयुक्त या उनके द्वारा प्रतिनियुक्त मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में ही सील खुलनी चाहिए थी, लेकिन जिस गुप चुप तरीके से निर्माणाधीन स्थल से कीमती सामनों को ढोया जा रहा है, वह चर्चा का विषय बना हुआ है.

इस संबंध में जानकारी लेने के लिए मेयर अरूणा श्ंाकर से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनसे हमारा संपर्क स्थापित नहीं हो सका.

इसे भी पढ़ें :झारखण्ड के छऊ कलाकारों के आर्थिक संकट को दूर करने को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म मुहैया करा रही केंद्र सरकार

निगम के कर्मी संतोष कुमार ने बताया कि इस संबंध में किसी तरह कोई परमिशन जारी नहीं किया गया है. संबंधित व्यक्ति अपने मन से सील एरिया का सामान ले जा रहा है. मामले में शहर थाना को यथा स्थिति बनाए रखने के लिए समय समय पर पत्र लिखा गया था. बावजूद ऐसी स्थिति बनी है.

इधर, वार्ड नंबर 22 के आयुक्त मनोज कुमार सिंह उर्फ बिल्लू ने बताया कि उक्त निर्माणाधीन स्थल को पूर्व में सील किया गया था. इसे खुले जाने की कोई भी अधिकारिक जानकारी उन्हें प्राप्त नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि सील स्थल से सामान ले जाना अपने आप में एक बड़ा अपराध है. नगर निगम को इसकी जानकारी दी जाएगी.

इसे भी पढ़ें :Bihar: मार्क्सशीट-सर्टिफिकेट में सुधार के लिए 11 अगस्त तक आवेदन कर सकते हैं मैट्रिक- इंटर के सफल छात्र, लगेगा शुल्क

Related Articles

Back to top button