JharkhandPalamu

पलामू: नीलांबर-पीतांबर विश्वविद्यालय के एमबीए और एमसीए में बीपीएल के लिए दो-दो सीटे होंगी आरक्षित

Daltonganj :  नीलांबर पीतांबर विश्वविद्यालय से संचालित एमबीए और एमसीए में अब बीपीएलधारियों के लिए भी कोटा आरक्षित होगा. एमबीए और एमसीए में बीपीएल के आधार पर दो-दो विद्यार्थी प्रवेश कर सकेंगे. इससे पहले यह व्यवस्था नहीं थी. उक्त आशय का निर्णय सोमवार को स्थानीय योध सिंह नामधारी महिला महाविद्यालय में नीलांबर पीतांबर विश्वविद्यालय के सिंडिकेट की 47वीं बैठक में लिया गया. इसकी अध्यक्षता एनपीयू के कुलपति डा सत्येंद्र नारायण सिंह ने की व संचालन कुलसचिव डा राकेश कुमार ने किया. बैठक में सर्वप्रथम छह जून 2018 को संपन्न क्रय एवं विक्रय समिति की बैठक में लिए गये निर्णयों को संपुष्ट किया गया. इसी तरह नौ अप्रैल व 27 जून को संपन्न फिनांस कमेटी बैठक में लिए गये निर्णय, 14 जून को संपन्न एकेडमिक काउंसिल की बैठक में लिए गये निर्णयों के अलावा 23 फरवरी, छह अप्रैल व 12 जून 2018 को संपन्न परीक्षा समिति की बैठक में लिए गये निर्णयों को संपुष्टि प्रदान की गयी.

इसे भी पढ़ें- पुलिस आधुनिकीकरण पर करोड़ों खर्च और जवानों की दुर्दशा, ऊपर भी पानी-नीचे भी पानी (देखें वीडियो)

सेवानिवृत कर्मचारियों को अनुबंध पर रखने का फैसला हुआ

कुलसचिव डा राकेश कुमार ने बताया कि सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है कि एमबीए और एमसीए में बीपीएलधारियों के लिए दो-दो सीट आरक्षित होंगी. बैठक में विभिन्न मसलों पर काफी देर तक चर्चाएं होती रहीं. कई बिंदुओं पर निर्णय भी हुआ. प्रोन्नति के मामले पर बातचीत हुई. निर्णय लिया गया कि गणेश लाल अग्रवाल महाविद्यालय के शिक्षकेत्तर कर्मचारी योगेंद्र तिवारी, एसएसजेएसएन महाविद्यालय गढ़वा के रामाधार सिंह व कंहाई राम को चतुर्थ वर्ग से तृतीय वर्ग में प्रोन्नति दिया जाए. इसी तरह योध सिंह नामधारी महिला महाविद्यालय के शिक्षकेत्तर कर्मचारी विजय राम को प्रधान सहायक के पद काबिज करने की सिफारिश भी की गयी. कुछ सेवानिवृत कर्मचारियों को अनुबंध पर रखने का फैसला हुआ. इसमें जनता शिवरात्रि महाविद्यालय के सुरेश राम, एनपीयू के सूर्यदेव ठाकुर, सालिकग्राम पांडेय, गणेश लाल अग्रवाल महाविद्यालय के जगन्नाथ प्रसाद और एसएसजेएसएन महाविद्यालय के श्याम बिहारी सिंह का नाम शामिल है. मौके पर प्रतिकुलपति डा. पवन कुमार पोद्दार, जीएलए कॉलेज के प्राचार्य डा. आईजे खलखो, जेएस कॉलेज के प्राचार्य डा. आरपी सिंह, डा. राधारमण किशोर आदि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- नदी किनारे महिला से सामूहिक दुष्कर्म

न्यायालय के निर्णयों पर हुई चर्चा

गढ़वा स्थित एसएसजेएसएन कॉलेज में कार्यरत एक शिक्षक और 29 शिक्षकेत्तर कर्मचारियों की नियुक्ति से संबंधित मामले पर एसबी सिन्हा कमीशन और सर्वोच्च न्यायालय की ओर से आये निर्णयों पर भी सिंडिकेट की बैठक में चर्चा हुईं. कुलसचिव ने बताया कि 1987 से एक शिक्षक और 29 कर्मचारी एसएसजेएसएन कॉलेज गढ़वा में सेवा दे रहे हैं. उक्त लोगों के एब्जोबशन से संबंधित मामले में एसबी सिन्हा कमीशन और सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय आया है. उस पर बातें चल रही हैं. निर्णय लिया गया कि इस मसले पर लीगत ओपेनियन लिया जायेगा.

नियुक्ति के बावजूद कुलसचिव नहीं बने डॉ बीके गुप्ता

झारखंड लोक सेवा आयोग की ओर से नीलांबर पीतांबर विश्वविद्यालय के कुलसचिव के पद पर डॉ. बसंत कुमार गुप्ता की नियुक्ति हुई थी. नियुक्ति के महीनों गुजरने के बावजूद डॉ गुप्ता एनपीयू में कुलसचिव पद नहीं संभाला. सोमवार को योध सिंह नामधारी महिला महाविद्यालय में इस बिंदु  पर चर्चा हुईं. बताया कि एनपीयू कुलसचिव पद पर जेपीएससी से डॉ बीके गुप्ता की नियुक्ति हुई थी, लेकिन वे यहां नहीं आये. ऐसी स्थिति में इसे रद्द करते हुए जेपीएससी को नए सिरे से अधियाचना भेजने पर सहमति बनी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close