JharkhandPalamu

पलामू : हत्या की दो घटनाओं से सनसनी, महिला की पीट कर और युवक की गोली मारकर हत्या

Palamu : पलामू प्रमंडल के गढ़वा और लातेहार जिले में पिछले 24 घंटे के दौरान हत्या की दो घटनाओं से सनसनी फैल गयी. लातेहार में जहां एक युवक की गोली मारकर हत्या दी गयी. वहीं एक दूसरे मामले में गढ़वा जिले में महिला को उसके पति ने दहेज के लिए पीट-पीट के मौत के घाट उतार दिया. दोनों घटनाओं की जांच शुरू कर दी गयी है.

दहेज की बकाया राशि नहीं मिलने पर महिला की हत्या

गढ़वा जिला अंतर्गत विशुनपुरा थाना के चितरी गांव में अमित रजवार ने अपनी 25 वर्षीय पत्नी सुचिता देवी की पीट-पीटकर हत्या कर दी. पुलिस ने भी इस हत्या की पुष्टि की है. पलामू के हैदरनगर थाना से सढ़या गांव के राजदेव रजवार ने अमित नाम के युवक के साथ अपनी बेटी की शादी की थी.

दहेज के नाम पर पहले ही उसने कुछ पैसे अमित को दिए थे. लेकिन एक लाख रुपया बकाया था. जो कि राजदेव चुकाने में समर्थ नहीं था. इसी एक लाख रुपये की बकाया राशि को लेकर अमित अक्सर सुचिता के साथ मारपीट करता था. और आखिर में दहेज की बकाया राशि को लेकर सुचिता की हत्या कर दी गयी.

इसे भी पढ़ें- मोदी सरकार ने शहीदों के बच्चों की बढ़ायी स्कॉलरशिप और रघुवर सरकार ने पुलवामा शहीदों को ठगा

मौत से पहले बतायी थी मारपीट की बात

मौत से पहले सुचिता ने अपनी मां शारदा को फोन कर बताया था कि उसकी पिटाई की जा रही है. जिसके बाद सुचिता के मायके बाले शाम पांच बजे उसके ससुराल पहुंचे. जहां सुचिता की हालत बहुत गंभीर थी. यह देख उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जाया जा रहा था लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई.

मृतका की मां ने बताया कि दहेज नहीं मिलने के कारण उसकी बेटी की हत्या की गई है. वहीं मामले को लेकर चार साल की बच्ची आरती ने बताया कि उसके सामने ही उसकी मौसी (सुचीता) को ससुराल के लोग बहुत मार रहे थे, जिससे उसकी मौत हो गई.

इसे भी पढ़ें- झारखंड का एक ऐसा गांव जहां पानी के अभाव में नहीं बजती है शहनाई, बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग (देखें…

हेरहंज में युवक की गोली मारकर हत्या

लातेहार जिला अंतर्गत हेरहंज थाना क्षेत्र के कसमार गांव में बीती रात गजेंद्र पासवान (21वर्ष) की अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. चार की संख्या में हथियारों से लैस होकर अपराधी गजेंद्र पासवान के घर पहुंचे और खुद को उग्रवादी संगठन का बताकर दरवाजा खोलने को कहा. लेकिन गजेंद्र ने दरवाजा नहीं खोला और वह अपनी छत पर चला गया. छत से जब उसने नीचे चार लोगों को हथियारों से लैस देखा तो चोर-चोर के नाम से शोर मचाने लगा.

इसी बीच युवक चारो अपराधियों में से एक ने गजेंद्र को गोली मार दी जो कि सीधे उसके सीने में लगी. गोली चलने और की आवाज सुनकर गजेंद्र के भाई सुरेंद्र पासवान बाहर भागा. लेकिन अपराधी बाहर से दरवाजा बंद कर फरार हो गए थे.

सुरेंद्र दरवाजा तोड़कर बाहर निकला और गजेंद्र को इलाज के लिए बालूमाथ स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया. जहां डॉक्टरों ने प्राथमिक इलाज कर गजेंद्र को रांची रिम्स रेफर कर दिया. लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गयी.

जांच में जुटी पुलिस

हेरहंज थाना प्रभारी नित्यानंद प्रसाद ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की गहनता से छानबीन कर रही है. घटना को उग्रवादी या अपराधियों ने अंजाम दिया है यह जांच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा. उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों से पूरे मामले की जानकारी ली गयी है. फिलहाल अपराधियों की खोज की जा रही है.

Advt

Related Articles

Back to top button