न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : तीन बार पलामू आए थे अटल बिहारी वाजपेयी

586

Palamu : पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी हमारे बीच नहीं रहे, लेकिन उनकी यादें पलामू जिले से अभी भी जुड़ी हुई हैं. एम्स में उपचार अटल बिहारी वाजपेयी ने अंतिम सांस ली.

mi banner add

दोहपर में अटल जी की हालत चिंताजनक होने के कारण जगह-जगह उनके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए लोग प्रार्थना कर रहे थे. पलामू प्रमंडल में भी मंदिर, गुरूद्वारों, गिरजा, मस्जिद सबमें उनके स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रार्थना की जा रही है.

इसे भी पढ़ें- नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, देशभर में शोक की लहर

एक बार गारू, दो बार डालटनगंजल आये थे अटल बिहारी

जन जन के प्यारे लोकप्रिय नेता एकता, भाईचारे के संदेश वाहक अटल जी पलामू प्रमंडल में तीन बार आ चुके थे. गारू प्रखंड में चल रहे वनवासी कल्याण केन्द्र में वह वर्ष 1977 में आए थे. गारू के बूढ़े-बुजूर्ग उनकी आगमन को याद कर श्री वाजपेयी के स्वास्थ्य लाभ की कामना कर रहे थे. गारू उस समय पलामू जिले का ही अंग था. बाद में लातेहार जिला अलग बनने पर इसमें शामिल हो गया.

जिला मुख्यालय डालटनगंज में भी श्री वाजपेयी दो बार आए थे और कई कार्यक्रमों में शिरकत की थी. चैनपुर प्रखंड के संकल्प नगर (शाहपुर) में प्रदेश अधिवेशन में 1981 में भाग लेने भाजपा के विधायक दल के नेता इंदर सिंह नामधारी के विशेष आमंत्रण पर आए थे.

Related Posts

शिक्षा विभाग के दलालों पर महीने भर में कार्रवाई नहीं हुई तो आमरण अनशन करूंगा : परमार

सैकड़ो अभिभावक पांच सूत्री मांगों को लेकर शनिवार को रणधीर बर्मा चौक पर एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठे

इसे भी पढ़ें- न्यूज विंग का खुलासा : FCI में नौकरी दिलाने के नाम पर बेरोजगारों से करोड़ों ठग रहा अंतरराज्यीय गिरोह

शोक की लहर

हर दिल अजीत नेता अटल बिहार वाजपेयी के निधन की सूचना मिलते ही भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ-साथ पलामूवासियों में शोक की लहर है. हर कोई उनकी मौत की सूचना पाकर मर्माहत है. बीमारी के कारण शरीर स्थिर पड़ने पर श्री वाजपेयी के चर्चे दिन भर होते रहे. जैसे ही शाम साढ़े पांच मेडिकल बुलेटिन आयी और मौत की खबर दी गयी. सूचना मिलते ही उनके चाहनेवाले शोकाकुल हो गए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: