न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: एक क्विंटल 12 किलो गांजा के साथ तीन तस्कर गिरफ्तार

गिरफ्तार तस्कर और जानकारी देते एसपी इन्द्रजीत महथा

300

Palamu: मादक पदार्थों की तस्करी रोकने को लेकर चलाये जा रहे अभियान में पलामू पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. मेदिनीनगर शहरी क्षेत्र में गुप्त सूचना पर चलाये गये चेकिंग अभियान में पुलिस ने गांजा की बड़ी खेप पकड़ी है. पुलिस ने इस सिलसिले में तीन तस्करों को गिरफ्तार किया है. पुलिस इसे बड़ी उपलब्धि मान रही है. पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि एक क्विंटल से ज्यादा गांजा की आपूर्ति कहां करनी थी?

इसे भी पढ़ें – ईडी ने द क्विंट के संपादक राघव बहल के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया

गुप्त सूचना पर मिली सफलता

पलामू के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत महथा ने शहर थाना में पत्रकारों को बताया कि गुप्त सूचना पर यह सफलता मिली. शुक्रवार को पुलिस अवर निरीक्षक सह यातायात प्रभारी विजय प्रकाश रेड़मा चौक पर डयूटी कर रहे थे. इसी दौरान उन्हें सूचना मिली कि रांची की ओर से एक सफेद रंग की पिकअप जेएच03डब्लू 3880 पर गांजा लोड कर मेदिनीनगर की ओर लाया जा रहा है. सूचना पर यातायात प्रभारी अपने दल के साथ रांची रोड में भगवती अस्पताल के पास सक्रिय हो गये.

इसे भी पढ़ें – इविक्शन ऑर्डर निकालने के तीन माह के बाद भी सीसीएल की जमीन से नहीं हटाया जा सका अवैध कब्जा

पिकअप को रोका, मिली सफलता

इसी क्रम में नंबर से मिलान कर पिकअप को देख कर उन्होंने उसके चालक को रुकने का इशारा किया. बाद में उसमें बैठे तीन लोगों को हिरासत में लिया गया और उनसे कड़ाई से पूछताछ की गयी तो उन्होंने बताया कि डाला के ऊपर से चदरा को नट बोल्ट से टाइट किया गया है. उसके नीचे गांजा भरा पड़ा है.

इसे भी पढ़ें – पूर्व मंत्री एनोस एक्का का सरकारी बंगला खाली कराया गया

डाला में नट-बोल्ट के सहारे छुपाया गया था गांजा

जानकारी पर जब नट-बोल्ट खोल कर देखा गया तो वहां भारी मात्रा में गांजा मिला. बाद में वाहन और गांजा को जब्त कर लिया गया. बाद में सूचना पर मौके पर पहुंचे डीएसपी भोला प्रसाद सिंह तीनों को गिरफ्तार कर शहर थाना ले आये.

इसे भी पढ़ें – रिप्लिका इस्टेट ने आर्मी लैंड का पहले बनाया हुक्मनामा, फिर करायी रजिस्ट्री और म्यूटेशन करवा कर बेच दिया-3

तीनों तस्कर गढ़वा के निवासी हैं

गिरफ्तार तस्करों में संजीव पाल औऱ आशीष कुमार और राकेश कुमार गढ़वा के ही रहनेवाले हैं. गिरफ्तारी अभियान में डीएसपी भोला प्रसाद सिंह, पुलिस निरीक्षक दीपक कुमार, सहायक अवर निरीक्षक रूद्रानंद सरस, जगमोहन बानरा सहित जवान शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – ईडी में आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर की 10 जून को पेशी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: