JharkhandPalamu

Palamu : विनोद पाल हत्याकांड में तीन गिरफ्तार, 25 साल पुराने विवाद में 1 लाख सुपारी देकर करायी गयी थी हत्या

Palamu : पलामू जिले के हुसैनाबाद थाना क्षेत्र के नावाडीह के बैरांव टोला के विनोद पाल की हत्या 25 वर्ष पुराने विवाद में हुई थी. विनोद पाल की हत्या के लिए 1 लाख रुपये की सुपारी कुख्यात अपराधी इंदल पासवान को दी गयी थी. काम होने से पूर्व 50 हजार और काम होने के बाद 50 रुपये का भुगतान किया गया था. विनोद पाल की हत्या के साजिशकर्मा रामाधार पासवान, चन्द्रदेव पाल और विमलेश पाल को गिरफ्तार कर लिया गया है. इसके साथ ही इस हत्याकांड से एक माह बाद पर्दा उठ गया. तीनों बैरांव टोला के ही निवासी हैं.

हुसैनाबाद के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी जितेन्द्र कुमार ने बताया कि गत 2 जुलाई को विनोद पाल की हत्या कर दी गयी थी. इस हत्याकांड के उद्भेदन एवं इसमें संलिप्त अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर टीम बनायी गयी थी. कार्रवाई करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. उन्होंने स्वीकारोक्ति बयान में बताया कि विनोद पाल के द्वारा 29 मई 1995 में नक्सलियों से रामाधार पासवान और उसके भाई की पिटाई करायी गयी थी. पिटाई के कारण रामाधार के भाई का हार्ट अटैक से मौत हो गयी थी. उस समय अप्राथमिकी अभियुक्त एक पंचायती में पंच की भूमिका में थे. इनके निर्णय से विनोद पाल को नाराजगी थी.

इसे भी पढ़ें – राहुल का आरोप-मोदी का एक और झूठ उजागर हुआ, रक्षा मंत्रालय ने माना- चीन ने किया घुसपैठ, फिर बेवसाइट से हटायी जानकारी

advt

उसी आक्रोश में रामाधार पासवान तथा चन्द्रदेव पाल ने बदले की भावना पाल रखी थी. इसी बीच विनोद पाल की हत्या के लिए रामाधार और चन्द्रदेव ने कुख्यात अपराधी इन्दल पासवान से संपर्क किया. विनोद पाल की हत्या के लिए एक लाख की सुपारी इन्दल को दी गयी. योजनानुसार रामाधार पासवान तथा चन्द्रदेव पाल के द्वारा इन्दल को अग्रिम 50 हजार रुपये दिये गये.

2 जुलाई को की गयी थी हत्या

2 जुलाई की रात में विमलेश पाल और राजेन्द्र पासवान के माध्यम से विनोद पाल को उसके घर से पकड़कर झपही नदी के पास ले जाकर इन्दल पासवान एवं राजेन्द्र पासवान के द्वारा उसकी हत्या कर दी गयी. घटना के बाद शेष 50 हजार रुपये रामाधार पासवान और चन्द्रदेव पाल के द्वारा अपराधी इन्दल पासवान को दिया गया. इन्दल पासवान हुसैनाबाद थाना क्षेत्र के सुकनाडेरा गांव का निवासी है और उसके विरुद्ध कई आपराधिक कांड हुसैनाबाद एवं सीमावर्ती थानों में दर्ज है. उसकी गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है.

गिरफ्तारी अभियान में एसडीपीओ के अलावा हुसैनाबाद के थाना प्रभारी राजदेव प्रसाद, पु.अ.नि विजय कुजूर, परि.पु.अ.नि कुणाल कुमार, स.अ.नि वीर बहादुर सिंह, संतोष कुमार और जवान शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – Palamu: कोरोना संक्रमण के 51 नए मामले, नावाबाजार थाना प्रभारी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव

adv
advt
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button