JharkhandPalamu

पलामू: अमानत नदी में समा गयी हजारों एकड़ उपजाऊ भूमि, ध्वस्त होने की कगार पर कई सरकारी भवन

Palamu: जिले के तरहसी प्रखंड क्षेत्र में लगातार कटाव होने से सरकारी भवन और उपजाउ भूमि अमानत नदी में समाते जा रहे हैं. वहीं कई भवन भी समाने की कगार पर पहुंच गये हैं. लेकिन सरकार और जिला प्रशासन का इसपर कोई ध्यान नहीं रह गया है. इससे भारी आर्थिक नुकसान होने की संभावना है.

तरहसी के ओझा पतरा प्राथमिक विद्यालय का शौचालय अमानत नदी में विध्वंस हो गया है. वहीं हजारों किसानों की कृषि योग्य भूमि अमानत नदी में समा गयी है. ओझा पतरा प्राथमिक विद्यालय और पशु अस्पताल भवन भी नदी के बहाव में क्षतिग्रस्त हो गया है.

धीरे-धीरे पशु अस्पताल, समुदाय भवन, कृषि भवन, ओझा पतरा प्राथमिक विद्यालय, इंदिरा गांधी बालिका उच्च विद्यालय समेत कई सरकारी भवनों को अमानत नदी निगल रही है. समय रहते सरकार और जिला प्रशासन नहीं चेता तो कुछ ही दिनों में तरहसी प्रखंड मुख्यालय की हृदय स्थलीय नक्शे से गायब हो जाएगी.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें –धनबादः बढ़ते संक्रमण के कारण सुबह 9 से 5 बजे तक ही खुलेंगी दुकानें, चेंबर ऑफ कॉमर्स का फैसला

तत्कालीन विधायक संतू सिंह की पहल बना था विद्यालय

1982 में एकीकृत बिहार में पांकी विधानसभा क्षेत्र के तत्कालीन विधायक संतू सिंह ने तरहसी में अमानत नदी के तट पर इंदिरा गांधी बालिका उच्च विद्यालय की स्थापना की थी. तत्कालीन विधायक संतू सिंह के प्रयास से बिहार सरकार ने अमानत नदी के किनारे पत्थर से तटबंध बनाया था. इसके बाद उसकी देखरेख के अभाव में कुछ पत्थर नदी में समा गये तो कुछ पत्थर चोरी हो गये. जब भी नदी में बरसात का पानी तेज बहाव के साथ आता है तो सरकारी भवनों को नुकसान पहुंचाता है.

स्थानीय लोगों ने बताया कि 1980 के दशक में तरहसी प्रखंड क्षेत्र की बालिकाओं को मैट्रिक तक की शिक्षा के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा था. बालिकाओं की शिक्षा के लिए प्रखंड में कोई व्यवस्था नहीं थी. तब तत्कालीन विधायक संतू सिंह ने तरहसी के लोगों की पीड़ा को समझते हुए 1982 में इंदिरा गांधी बालिका उच्च विद्यालय का स्थापना कर उच्च शिक्षा प्रदान करने की दीप जलायें.

लेकिन सवाल उठता है कि देश जहां डिजिटल बन रहा है, वहीं सरकार और जिला प्रशासन के उदासीन रवैया के कारण तरहसी के कई सरकारी भवन विध्वंस होने की कगार पर पहुंच गये हैं.

इसे भी पढ़ें – CoronaUpdate: संक्रमण के कारण दो और लोगों की गयी जान, राज्य में मौत का आंकड़ा हुआ 66

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button