JharkhandPalamu

पलामू : रात में नहीं होगी धान की खरीद, प्रत्येक केंद्र पर रहेंगे नाइट गार्ड और कंप्यूटर ऑपरेटर

Palamu : खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 के अंतर्गत जिले में सफलतापूर्वक धान अधिप्राप्ति किये जाने को लेकर डीएसओ शब्बीर अहमद व जिला सहकारिता पदाधिकारी अश्विवनी कुमार ओझा ने बुधवार को सभी पैक्स अध्यक्षों के साथ डीआरडीए सभागार में बैठक की. डीएसओ ने बारी-बारी से सभी पैक्स अध्यक्षों से उनके पैक्स की क्षमता, वैकल्पिक व्यवस्था, सड़क व कंप्यूटर ऑपरेटर आदि की जानकारी ली.

ram janam hospital

जिला आपूर्ति पधाधिकारी शब्बीर अहमद ने सभी पैक्स अध्यक्षों से सरकार द्वारा जारी संकल्प के अनुसार ही धान की खरीदारी करने की बात कही. उन्होंने कहा कि धान अधिप्राप्ति में किसी तरह की कोई समस्या ना आये. इसके लिए यह आवश्यक है कि आप सभी अपने संबंधित बीडीओ के साथ निरंतर संपर्क में रहें.

इसे भी पढ़ें:15 दिसंबर से नहीं शुरू होंगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, कोरोना के नये वेरिएंट को लेकर अलर्ट

प्रबंधन की पूर्ण जिम्मेदारी रहेगी पैक्स अध्यक्षों पर

बैठक में डीएसओ ने प्रत्येक केंद्र पर नाइट गार्ड की व्यवस्था करने की बात कही. साथ ही रात में किसी प्रकार की धान की कोई खरीदारी न करने की बात कही. उन्होंने कहा कि प्रत्येक केंद्र पर प्रबंधन की पूर्ण जिम्मेदारी संबंधित पैक्स अध्यक्ष की रहेगी. इसके अलावे क्रय प्रभारी के तौर पर वीएलडब्लू की भी प्रतिनियुक्ति की जायेगी. धान अधिप्राप्ति के पश्चात जिला द्वारा चयनित मिलर्स के द्वारा धान का परिवहन किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें:झारखंड : कोरोना काल में जान गंवाने वालों के लिये प्रदेश कांग्रेस ने केंद्र से मांगा 4 लाख का मुआवजा

अधिकाधिक किसानों से निबंधन कराने की अपील की

पैक्स अध्यक्षों द्वारा निबंधन के विषय पर सवाल किये जाने को लेकर जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने बताया कि कोई भी किसान ऑफलाइन या ऑनलाइन दोनों ही तरीकों से अपना निबंधन करा सकते है.

उन्होंने बताया कि ऑफलाइन निबंधन हेतु किसानों को संबंधित अंचल कार्यालय में विभाग द्वारा निर्धारित विहित प्रपत्र में फोटोयुक्त वैध पहचान पत्र यथा-आधार संख्या, मोबाईल नंबर, बैंक खाता विवरणी, कृषि कार्य हेतु प्रयुक्त भूमि का रकबा, खाता संख्या एवं प्लॉट संख्या सम्बन्धी कागजात सहित आवेदन करना होगा.

इसे भी पढ़ें:JSSC संशोधित नियमावली: हाइकोर्ट की मौखिक टिप्पणी- हिंदी और अंग्रेजी को पेपर टू से हटाने का क्या औचित्य?

वहीं ऑनलाइन निबंधन के लिए किसान स्वयं भी अथवा प्रज्ञा केंद्र के माध्यम से आवेदन कर सकतें हैं. यह आवेदन ई-उपार्जन पोर्टल एवं बाजार एप के माध्यम से किया जायेगा.

आवेदन भरते समय किसानों द्वारा फोटोयुक्त वैध पहचान पत्र, यथा- आधार कार्ड, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस इत्यादि, बैंक खाता विवरणी, भूमि का रकबा (खाता संख्या एवं प्लॉट संख्या सहित) का स्कैन कॉपी अपलोड करना होगा. बैठक में जिला आपूर्ति एवं जिला सहकारिता कार्यालय के अन्य कर्मी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें:18 दिसंबर को झामुमो का केंद्रीय अधिवेशन: तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगी पार्टी

Advt
Advt

Related Articles

Back to top button