Crime NewsPalamu

पलामू : डाल्टनगंज रेलवे क्वार्टर में चोरी, थाना क्षेत्र के उलझन में 48 घंटे बाद भी एफआईआर और कार्रवाई नहीं

Palamu : पलामू जिला मुख्यालय डाल्टनगंज के रेलवे क्वार्टर में लगातार चोरी हो रही है. पिछले 3 दिनों के दौरान चार क्वार्टर में चोरी हो गयी है. बावजूद 48 घंटे से अधिक समय बीत जाने के बाद भी तीन मामलों में अबतक एफआईआर दर्ज नहीं की गयी है. मेदिनीनगर शहर थाना और जीआरपी के कार्य क्षेत्र के उलझन में अब तक एफआईआर लटकी हुई है. इससे रेल कर्मियों में भारी आक्रोश है. लोग दो थानों के उलझन में खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. अब रेल कर्मियों के द्वारा ऑनलाइन एफआईआर दर्ज करने का निर्णय लिया गया है.

इसे भी पढ़ें : कोडरमा : अवैध रूप से भंडारित किया जा रहा बालू जब्त, खनन विभाग और पुलिस ने की संयुक्त कार्रवाई

डालटनगंज रेलवे स्टेशन के स्टाफ क़वार्टर की सुरक्षा इन दिन हो भगवान भरोसे हो गई है. शुक्रवार के दिन दहाड़े 3 क्वार्टर में चोरी के बाद शनिवार की रात चौथे क्वार्टर में चोरी की घटना हुई. चौथी घटना की जानकारी रविवार को हुई.
राजकीय रेल थाना कार्यालय से महज चंद कदम की दूरी पर एक बंद क़वार्टर में चोरों ने ताला तोड़कर हाथ साफ कर लिया. चोरी की घटना ब्रिज विभाग में कार्यरत रेलकर्मी प्रदीप कुमार के क़वार्टर संख्या 60 में हुई. रेलकर्मी प्रदीप रेलवे के कार्य से रेणुकूट में हैं. घटना के वक्त उनके क़वार्टर में कोई नहीं था. पड़ोसियों ने चोरी की घटना देखकर इसकी जानकारी प्रदीप को दी.

advt

इधर, इस घटना के बाद से कॉलोनी में रहने वाले रेलवे कर्मचारियों में पुलिस की निष्क्रियता को लेकर भारी आक्रोश है और सुरक्षा के प्रति भय व्याप्त हो गया है.

48 घण्टे से अधिक समय बीत जाने के बाद भी शुक्रवार को हुई चोरी की तीन घटनाओं की एफआईआर दर्ज नहीं हो सकी है. एफआईआर का मामला जीआरपी थाना और मेदिनीनगर शहर थाना के बीच उलझ कर रह गया है.

adv

इसे भी पढ़ें : Jharkhand : आरोपी अभिषेक के मुताबिक कांग्रेस के 11 विधायकों से हो रही थी डील, एक करोड़ दिया जाना था एडवांस

विदित हो कि शुक्रवार को दिनदहाड़े रेलवे कॉलोनी में ट्रैक मैन सुधीर कुमार, सुमेश कुमार और नीरज कुमार के क़वार्टर का ताला तोड़कर चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया था. एफआईआर कराने गए रेलकर्मी को जीआरपी थाना ने शहर थाना में एफआईआर कराने की नसीहत दी है.

वही शहर थाना जाने पर जीआरपी थाना जाने की सलाह दी गयी है. दोनों थानों का कहना है कि रेलवे क़वार्टर का इलाका उनके जूरिडिक्शन में नहीं आता. ऐसे में रेलवे कॉलोनी में रहने वाले रेलकर्मी यह पूछ रहे हैं कि आखिर उनकी सुरक्षा का जिम्मा लेगा कौन? थाना में प्राथमिकी दर्ज नहीं होने से परेशान पीड़ित रेलकर्मियों ने ऑनलाइन एफआईआर दर्ज कराने का निर्णय लिया है.

इसे भी पढ़ें :मीराबाई चानू को लाइफटाइम फ्री पिज्जा देगा Dominos, ओलंपिक मेडलिस्ट ने मैच के बाद जताई थी Pizza खाने की इच्छा

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: