न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पांच वर्षों से फरार आरोपियों की गिरफ्तारी का विरोध, बंद रहा हरिहरगंज

35

Palamu : करीब पांच-छह वर्षों से फरार चल रहे पांच वारंटियों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने पर जमकर हंगामा किया गया. विरोध में दुकानें बंद रखी गयी. पुलिस पर साजिश के तहत फंसाने का आरोप लगाया गया. हंगामा का प्रदर्शन का सिलसिला दिन भर चलता रहा. पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की गयी.

गिरफ्तार करने के बाद भड़के लोग

पलामू जिले के हरिहरगंज में 25 मई 2013 एक सांप्रदायिक हिंसा मामले में जैसे ही पांच आरोपियों को अलग-अलग इलाके से गिरफ्तार किया गया, लोग भड़क गए. दुकानें बंद करा दी गयी. लोगों का आरोप था कि पुलिस ने इस मामले में निर्दोष लोगों को पकड़ा गया है. लोगों को साजिश के तहत फंसाया गया है. पुलिस को पूरे मामले की गहनता से जांच करनी चाहिए थी. लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. इस मामले में अभी तक तीन लोगों को जमानत मिली है. जबकि दोनों पक्षों की ओर से नौ-नौ आरोपी बनाए गए थे.

hosp3

गिरफ्तार लोगों में कौन-कौन?

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में बंजारी निवासी मो. नसरुल्लाह के पुत्र मोहम्मद डायमंड, कुरहत कटैया गांव निवासी मोहम्मद इसराइल अंसारी के पुत्र मोहम्मद निजामुद्दीन अंसारी, हरिहरगंज निवासी सीताराम शौंडीक के पुत्र रिंकू शौंडिक, हरिहरगंज निवासी रामप्यारे विश्वकर्मा के पुत्र विकास विश्वकर्मा, अवध स्वर्णकार के पुत्र अजय स्वर्णकार शामिल हैं. इन पांचों फरार वारंटियों पर दो समुदायों के बीच हिंसा भड़काने का आरोप है. वर्ष 2013 में इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था. तब से ये फरार चल रहे थे.

अन्य आरोपियों की जल्द होगी गिरफ्तारी

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए चलाए गए छापामारी अभियान के नेतृत्व कर रहे पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी वंश नारायण सिंह ने कहा कि इस मामले में शेष आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द ही की जाएगी. अभियान में थाना के अलावा पिपरा थाना प्रभारी महानंद सूरीन, पथरा पिकेट प्रभारी संजय तिग्गा, एसआइ मुस्तफा हुसैन, सुनील कुमार, मनोज मंंडल, श्याम नारायण सिंह, रविंद्र कुमार सिंह के अलावे कई पुलिस के जवान शामिल थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: