न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : सोलर जल-नल योजना में भारी अनियमितता की आशंका

जिप की टीम ने की 14वें वित्त की योजनाओं की जांच

46

Palamu : जिला परिषद की विशेष जांच टीम ने विभिन्न पंचायतों में 14वें वित्त की राशि से संचालित सोलर जल-नल योजना के क्रियान्वयन में भारी अनियमितता की आशंका व्यक्त की है. इस मामले को इसी वर्ष 27 जुलाई को जिला परिषद बोर्ड की बैठक में सदस्यों ने उठाया था. इसके बाद योजनाओं की जांच के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया था. इस टीम में जिला परिषद उपाध्यक्ष संजय सिंह के अलावा दो कार्यपालक अभियंता और सहायक अभियंता शामिल हैं.

वार्ड सदस्यों के फर्जी हस्ताक्षर किए गए

जांच टीम ने सदर प्रखंड अंतर्गत लहलहे और झाबर के पीढ़िया गांव में योजनाओं की जांच की. जांच टीम ने लहलहे पंचायत भवन में बैठकर ग्रामीणों, वार्ड सदस्यों और अन्य लोगों से पूछताछ की. इस दौरान जांच टीम ने पाया कि कार्यकारिणी में योजनाएं पारित नहीं हैं और रजिस्टर में वार्ड सदस्यों के फर्जी हस्ताक्षर किए गए हैं.

टंकी और मोटर नदारद

संचालित योजनाओं के दस्तावेज, प्राकल्लन और प्रारूप की सत्यापित प्रति भी पंचायत सचिवालय में नहीं थे. पीढ़िया गांव में टीम ने स्थल जांच भी की. जिला परिषद उपाध्यक्ष ने बताया कि स्थल पर सोलर जल-नल योजना का स्ट्रक्चर तो तैयार किया गया है, लेकिन टंकी और मोटर नदारद है, जबकि प्रखंड विकास पदाधिकारी के द्वारा दो लाख 60 हजार रुपये के भुगतान का सत्यापित प्रतिवेदन दिया गया है.

सोलर का क्रय भी स्थानीय स्तर पर

उन्होंने बताया कि जांच में ये बातें भी सामने आयी है कि सभी योजनाओं में पीएचइडी द्वारा निर्मित पुराने चापाकल बोर से जोड़ दिये गये हैं, जबकि इसके लिए विभाग से एनओसी नहीं लिया गया है. उन्होंने बताया कि सोलर का क्रय भी स्थानीय स्तर पर किया गया है, जबकि सरकारी प्रावधानों के अनुसार ज्रेडा या इइएसएल से किया जाना था. सिंह ने यह भी कहा है कि नियमानुसार दो लाख 49 हजार से ज्यादा की राशि की योजनाओं के लिए निविदा आवश्यक है. परंतु इन योजनाओं की निविदा नहीं निकाली गयी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: