JharkhandPalamu

पलामू: कड़ी धूप में ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों को छात्राएं पिला रहीं ठंडा पानी, पॉकेटमनी से किया है फल का भी इंतजाम

Dilip Kumar

Palamu: कोरोना वायरस को हराने के लिए पुलिसकर्मी और स्वास्थ्यकर्मी जान पर खेलकर ड्यूटी कर रहे हैं. इस दौरान दोनों विभागों के कर्मियों को कभी-कभी विपरीत परिस्थतियों का भी सामना करना पडता है. खास कर पुलिसकर्मियों की लगातार सड़कों पर रहकर कड़ी धूप में  ड्यूटी देना किसी चुनौती से कम नहीं है.

40 डिग्री तापमान में पुलिसकर्मियों को डयूटी के दौरान पानी के लिए भटकता देखकर मेदिनीनगर की चार छात्राएं उनकी सेवा के लिए सामने आयी हैं. उनके द्वारा हर दिन दोपहर में घूम- घूमकर शीतल पेय, तरबूज, खीरा एवं अंकुरित चना का वितरण पुलिसकर्मियों के बीच किया जा रहा है. इससे जवानों को राहत पहुंच रहा है.

advt

इसे भी पढ़ें – शिक्षा मंत्री की अपील के बाद धनबाद DC ने की निजी स्कूलों से फीस माफ करने का अनुरोध

लॉकडाउन के तीसरे दिन से सेवा कर रही हैं छात्राएं  

लॉकडाउन शुरू होने के तीसरे दिन से प्रतिदिन मेदिनीनगर शहर की चार छात्राएं हर चौक-चौराहों पर ड्यूटी में तत्पर पुलिस के जवानों को शीतलपेय, तरबूज, खीरा एवं अंकुरित चना खिलाकर अपनी संवेदना दिखा रही हैं. लॉकडाउन के दूसरे दिन जवानों को कड़ी धूप में चापाकल से पानी पीते देखा तो इनलोगों ने फैसला किया कि उनका भी कुछ फर्ज इनके लिए बनता है. इसके बाद से सभी छात्राएं हर दिन पुलिस जवानों के लिए अल्पाहार लेकर पहुंचती हैं.

चार बच्चियां अपनी स्कूटी से साहित्य समाज चौक से लेकर रेड़मा चौक तक करीब दो किलोमीटर की परिधि में तैनात करीब 50 पुलिसकर्मियों को अल्पाहार दे रही हैं. जेलहाता की रहने वाली चारों लड़कियों में मीली शरण रांची मारवाड़ी कालेज में फाइनल इयर की छात्रा है.

अंशू तिर्की गोस्नर कॉलेज की छात्रा हैं. इसी तरह ईशा शरण गुरु गोविंद सिंह विद्यालय से मैट्रिक की परीक्षा दी है एवं मौली शरण गुरु गोविंद सिंह पब्लिक स्कूल की सातवीं में पढ़ने वाली छात्रा हैं.

adv

इसे भी पढ़ें – शिक्षा मंत्री की अपील के बाद धनबाद DC ने की निजी स्कूलों से फीस माफ करने का अनुरोध

खुद के खर्चे से बांटती हैं अल्पाहार

छात्राएं जवानों के लिए उस समय अल्पाहार और शीतल पेय लेकर पहुंचती हैं, जब धूप सिर पर रहता है. गर्मी से गला सूखता है. लू लगने का डर सताता रहता है. ऐसे में सभी छात्राएं वहां पहुंचती हैं और ड्यूटी में तैनात जो भी पुलिसकर्मी मिलते हैं, उनकी सेवा कर निकल जाती हैं. इसमें आने वाले सारे खर्च को वह खुद से वहन करती हैं. परिजनों का लगातार सहयोग और प्रोत्साहन इस कार्य के लिए उन्हें मिलता है.

इसे भी पढ़ें – भारत को 15.5 करोड़ डॉलर की मिसाइल देगा अमेरिका, क्या काम कर गयी दवा?

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button