JharkhandPalamu

पलामू: छतरपुर अनुमंडल में 48 क्रशरों की जांच और कार्रवाई का दावा खोखला, डेढ़ माह पहले SDO ने दिया था आदेश

Palamu: पलामू जिले के छत्तरपुर अनुमंडल पदाधिकारी एनपी गुप्ता का आदेश बेअसर साबित हो रहा है. डेढ़ माह बीत जाने के बाद भी एसडीओ के आदेश पर कोई कार्रवाई नहीं की गयी है. ऐसे में ताक पर रखकर अनुमंडल क्षेत्र में स्टोन क्रशरों का संचालन हो रहा है. वन खनिज का प्रयोग धड़ल्ले से जारी है, किन्तु इसकी जांच नहीं होने से सरकार को लाखों, करोड़ों रुपए राजस्व की क्षति हो रही है.

विदित हो कि कुछ दिन पूर्व विधानसभा की समिति ने छतरपुर और नौडीहा बाजार प्रखंड क्षेत्र में स्टोन क्रशरों और माइंस की जांच की थी. इसमें कई खामियां मिली थी. विधानसभा की टीम ने जिला खनन पदाधिकारी से इस सिलसिले में रिपोर्ट मांगी है.

इलाके में अवैध खनन पर दर्जनों क्रशर चलने की जानकारी मिलने के बाद छतरपुर एसडीओ ने ऐसे क्रशरों पर त्वरित कार्रवाई के लिए संबंधित क्षेत्रों के अधिकारियों को एक महीने दौरान दो बार पत्राचार किया था, जिसमें हरिहरगंज के 25 और छतरपुर के 23 क्रशर की जांच व कार्रवाई का जिक्र किया गया था. बावजूद करीब डेढ़ महीने बीत जाने के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई.

advt

इसे भी पढ़ें :बिहार में कोरोना के बढ़ते केस पर हाइकोर्ट सख्त, अस्पतालों की व्यवस्था पर मांगी सरकार से जानकारी

एसडीओ ने अलग अलग पत्रांकों व तिथियों के माध्यम से कार्रवाई के लिए पलामू जिला खनन पदाधिकारी के अलावा छत्तरपुर वन क्षेत्र के पूर्वी और पश्चिमी के पदाधिकारियों सहित छत्तरपुर व हरिहरगंज के सीओ सहित अन्य अधिकारियों को पत्राचार भी किया था.

इस बाबत कागजातों व सुरक्षा मानकों की जांच के साथ ही राजस्व क्षति का आकलन, सुरक्षा मानकों को पूरा नहीं करने पर क्रेशर मशीन को सील कर ध्वस्त करने, अवैध खनन के संचालकों पर प्राथमिकी दर्ज करने आदि का जिक्र किया गया था, किन्तु अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने से अवैध क्रशर संचालकों के हौसले बुलंद नजर आ रहे हैं. वहीं अधिकारियों द्वारा उनके प्रति गांधीगिरी दिखाने से उनके अन्य मंशा चर्चा का विषय बनता जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics महिला हॉकी में वंदना की हैट्रिक, भारत ने द. अफ्रीका को 4-3 से हराया, जानिये अब आगे का सफर किस पर निर्भर

एसडीओ कौन होते हैं आदेश देने वाले: डीएमओ

इस बावत जिला खनन पदाधिकारी संजीव कुमार से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि छतरपुर एसडीओ कौन होते हैं मुझे आदेश देने वाले. जो उनका काम है वे स्वंय करें, मेरा जो काम है मुझे बखूबी पता है. वैसे भी छत्तरपुर अनुमंडल क्षेत्र में अवैध या वैध कितने क्रशर संचालित हो रहे हं,ै सबका लिस्ट उनके पास है, जल्द ही कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ें :नाटक में भगत सिंह की फांसी के सीन की रिहर्सल करते समय फंदा कसा, बच्चे की मौत

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: