JharkhandLead NewsPalamu

पलामू: मेदिनी राय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 24 घंटे बाद भी नहीं निकली महिला की जांघ में लगी गोली, रेफर के बाद हंगामा

Palamu : सदर अस्पताल से मेडिकल कॉलेज अस्पताल में परिवर्तित होने पर मेदिनी राय मेडिकल कॉलेज अस्पताल का नाम तो बड़ा हो गया है, लेकिन यहां की इलाज सुविधा भगवान भरोसे ही रहती है. इसकी एक बानगी गुरुवार को देखने को मिली. गोली लगने से जख्मी महिला मरीज का 24 घंटे बाद भी ऑपरेशन नहीं किया जा सका. नतीजा गोली नहीं निकल पायी. अंततः मरीज की गंभीर स्थिति का हवाला देकर रांची रेफर कर दिया गया.

Advt

हद तो तब हो गयी, जब रेफर करने के बाद मरीज के परिजनों को ढाई घंटे तक सरकारी एम्बुलेंस की सुविधा नहीं मुहैया करायी गयी. अंततः मरीज के परिजनों ने हंगामा शुरू किया तो 5 बजे सरकारी एम्बुलेंस की सुविधा मुहैया करायी गयी. तब मरीज को रांची ले जाया जा सका.

इसे भी पढ़ें:11 गैर अनुसूचित जिलों में 626 इतिहास व नागरिक शास्त्र शिक्षकों की नियुक्ति का आदेश जारी

बताते चलें कि बुधवार की सुबह जिला मुख्यालय मेदिनीनगर से सटे सदर थाना क्षेत्र के चियांकी के पिपराडीह-बखारी में माइंस विवाद में हुई फायरिंग में संतोष साव की पत्नी अजंती देवी की जांघ में गोली लग गयी थी.

महिला इसी गांव की रहनेवाली है. उसे इलाज के लिए एमएमसीएच में भर्ती किया गया था. माइंस विवाद में रेड़मा के सीताराम तिवारी, उसके बेटे और अन्य पर फायरिंग करने का आरोप लगाया गया था.

परिजनों का आरोप है कि अस्पताल में 24 घंटे तक मरीज को रोके रखा गया. अगर सुविधा नहीं थी तो तत्काल रेफर कर देना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं किया गया. गुरुवार दोपहर तक गोली नहीं निकाली गयी.

इसे भी पढ़ें:GOOD NEWS : अब राष्ट्रीय मिलिट्री कॉलेज व स्कूलों में भी मिलेगा लड़कियों को प्रवेश

पूछने पर डाक्टरों ने कोई जानकारी देना मुनासिब नहीं समझा. दिन भर भटकते रहे. अंततः दोपहर दो बजे मरीज को रेफर किया गया. दो घंटे तक एम्बुलेंस की कोई व्यवस्था नहीं दी गयी. स्थिति बिगड़ने पर पांच बजे एम्बुलेंस दिया गया.

महिला के पति संतोष साव ने कहा कि अस्पताल में ऑपरेशन सुविधा अगर नहीं थी तो बुधवार को ही मरीज को रेफर कर दिया जाता तो अबतक रांची में उसका ऑपरेशन हो गया होता, लेकिन मामले को लटकाए रखा गया.

मरीज की स्थिति जब खराब होने लगी तो आनन फानन में रांची ले जाने के लिए दबाव दिया गया. जिस तरह फेंका फेंकी वाली व्यवस्था से उससे यही कहेंगे कि अगर गरीब नहीं होते तो सरकारी अस्पताल में कभी इलाज के लिए नहीं आते.

इधर, टीओपी वन प्रभारी रेवाशंकर राणा ने बताया कि गोली लगने से जख्मी महिला मरीज के परिजनों द्वारा हंगामा किए जाने की सूचना मिलने पर एमएमसीएच पहुंचे. मामले को शांत कराया. शाम करीब 4.45 बजे एम्बुलेंस का प्रबंध होने पर मरीज को रांची रिम्स भेजा गया.

इसे भी पढ़ें:शाहरुख खान के बेटे आर्यन सहित 8 आरोपियों को 14 दिनों की न्यायिक हिरात में भेजा गया

सीताराम तिवारी, उसके बेटों और अन्य पर मामला दर्ज

सदर थाना प्रभारी कमलेश कुमार ने बताया कि महिला अजंती देवी पर गोली चलाने मामले में रेड़मा के सीताराम तिवारी, उसके बेटे और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. मामले में अनुसंधान किया जा रहा है. जांच के बाद कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें:रोहतास के लाल ने बीपीएससी में किया टॉप, सेल्फ स्टडी को बताया मूल मंत्र

Advt

Related Articles

Back to top button