न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : रांची पहुंचा पलामू के जाबांज लेफ्टिनेंट अनुराग का पार्थिव शरीर, सोमवार सुबह पैतृक गांव में होगा अंतिम संस्कार

सोमवार की अहले सुबह लगभग पांच बजे रांची से  डालटनगंज पैतृक गांव में अंतिम संस्कार के लिए शव भेजा जायेगा. लेफ्टिनेंट को सलामी देते समय उनके परिवार के लोग गमगीन हो गये. 

889

Palamu :  पलामू के जाबांज सेना में लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला का पार्थिव शरीर, रविवार की शाम रांची पहुंचा. एयरपोर्ट में सलामी देने के बाद  शव को  राजभवन ले जाया गया. सोमवार की अहले सुबह लगभग पांच बजे रांची से  डालटनगंज पैतृक गांव में अंतिम संस्कार के लिए शव भेजा जायेगा. लेफ्टिनेंट को सलामी देते समय उनके परिवार के लोग गमगीन हो गये.

इसे भी पढ़ेंः कन्हैया के लिए येचूरी से लेकर जावेद अख्तर तक करेंगे प्रचार

सिंगरा पैतृक गांव में होगा अंतिम संस्कार

hosp3

लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के सिंगरा के मूल निवासी थे. सोमवार सुबह पांच बजे रांची से पार्थिव शरीर सीधे उनके पैतृक गांव लाया जायेगा. शव के अंतिम दर्शन के बाद अंतिम यात्रा निकाली जायेगी. बाद में राजकीय सम्मान के साथ   अंतिम संस्कार किया जायेगा. अंतिम यात्रा में लोगों की भारी भीड़ उमड़ने की संभावना है.

इसे भी पढ़ेंः नक्सलवाद खत्म होने का सीएम का दावा गलत, बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए सरकार जिम्मेवार  :  राजेश ठाकुर

पूरा पलामू है गमगीन

लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला की मौत होने से पूरा पलामू गमगीन है. शोक में डूबा हुआ है. अदम्य साहस से भरे 23 साल के लेफ्टिनेंट अनुराग ने साथियों की खातिर अपने जान की बाजी लगा दी. साथियों को तो नयी जिंदगी दी, लेकिन खुद को नहीं बचा सके. लेफ्टिनेंट अनुराग सिंगरा निवासी जीतेन्द्र शुक्ला के इकलौते पुत्र थे. शनिवार को जैसे ही अनुराग की मौत होने की खबर घर पहुंची परिवार में कोहराम मच गया. सिंगरा के साथ साथ पूरा पलामू व्यथित हो गया. सोशल मीडिया लेफ्टिनेंट अनुराग के बहादुरी के चर्चे से भरा पड़ा है.

कैसे हुई लेफ्टिनेंट की मौत

लेफ्टिनेंट अनुराग शुक्ला जम्मु कश्मीर राईफल रेजिमेंट में कार्यरत थे. छह माह पूर्व ही उनकी पहली पोस्टिंग हुई थी. राजस्थान के श्रीगंगा नगर में खेत में बनी पानी के जलाशय में 19 अप्रैल की दोपहर में अपने साथियों के साथ अनुराग  ट्रेनिंग कर रहे थे. तभी एक हादसे में उनके साथ ट्रेनिंग कर रहे साथी जवान डूबने लगे. साथियों को डूबते देख अनुराग गहरे पानी में कूद गये.

सेना के जवानों ने जब तक उन्हें बाहर निकाला तब तक काफी देर हो चुका था. बेहोशी की हालत में उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में ले जाया गया. जहां कुछ ही देर बाद उनकी मौत हो गयी. लेफ्टिनेंट अनुराग के शरीर को लाने उनके पिता जितेंद्र शुक्ला व मौसा भाजपा नेता डॉ अमित प्रकाश उपाध्याय राजस्थान गये थे.

इसे भी पढ़ेंः भाजपा ने कहा, रणछोड़ हैं डॉ अजय, कांग्रेस बोली, भाजपा में डॉ अजय की छवि का कोई नेता नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: