न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : बिजली को लेकर दस दिनों से दो गांवों में तनाव

44

Palamu : बिजली दैनिक जीवन में बहुत उपयोगी हो गयी है. लेकिन इसे लेकर कई बार ऐसी घटना को हो जाती है, जिससे जान माल को भारी नुकसान पहुंचता है. जिले के लेस्लीगंज और पाटन के सीमावर्ती इलाके हरतुआ और सहदेवा में बिजली को लेकर तनाव की स्थिति बन गयी है.

बिजली ले जाने को लेकर शुरू हुआ विवाद मारपीट, बंधक बना लेने, जाने मारने की धमकी और एक दूसरे के गांवों में आने-जाने पर पाबंदी लगाने तक पहुंच गया है. हालांकि मामले को सुलझाने के लिए सिविल और पुलिस प्रशासन तत्परता दिखा रहा है. पाटन की थाना प्रभारी नूतन मोदी ने दावा किया है कि कल तक इस मामले को सुलझा लिया जायेगा. दोनों गांवों में किसी तरह की अप्रिय घटना ना हो, इसके लिए सुरक्षा के प्रबंध किये जा रहे हैं.

शराब को लेकर पूरे झारखंड में मारामारी, ब्लैक में बिक रही शराब, दुकान न खुलने से हो रही परेशानी,…

hosp3

होली के दिन से शुरू हुआ है विवाद

जानकारी के अनुसार लेस्लीगंज प्रखंड के हरतुआ और पाटन के सहदेवा के बीच अमानत नदी पुल का निर्माण हो रहा है. ग्रामीणों का आरोप है कि ठेकेदार द्वारा होली के दिन निर्माण कार्य स्थल से ग्यारह हजार का तार हटाये जाने पर हाइटेंशन तार एलटी में सट गया.

ग्यारह हजार वोल्ट का करंट एलटी तारों में आने से गांव के कई घरों में टेलीविजन, पंखा, कूलर, फ्रीज आदि जल गए थे. इससे लोगों को लाखों रुपये का नुकसान हुआ. उपकरणों के जलने तक ही मामला नहीं रहा. घटना के दौरान बिजली का स्वीच बंद कर रहे हरतुआ की मुखिया खैरूण बीबी के दामाद मो. खुर्शीद की करंट लगने से मौत हो गयी.

घटना के बाद हरतुआ के ग्रामीणों ने पाटन के सहदेवा गांव में बिजली ले जाने पर रोक लगा दी. इससे पाटन के सहदेवा-मोतियाखाला और लेस्लीगंज थाना के हरतुआ मे तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. हरतुआ के लोगों का कहना है कि बिजली के तार जब तक ठीक नहीं हो जाते हैं, तब तक बिजली सहदेवा में न जाये.

मंडलकारा लातेहार में राइटर और प्रभारी जमादार ने बंदी अकरम से की मारपीट

जबरन बिजली पोल लगाने पर विवाद बढ़ा

ग्रामीणों ने बताया कि घटना के बाद विद्युत विभाग के एसडीओ अरविंद कुमार ने हरतुआ गांव आये थे. उन्होंने कहा था कि हरतुआ होकर पाटन तरफ बिजली फिलहाल नहीं जायेगी.

तारों को ठीक करने तक सहदेवा गांव को पाटन क्षेत्र से ही बिजली दे दी जायेगी. कुछ दिन पहले सहदेवा में पाटन की ओर से बिजली पहुंचा दी गयी है. हरतुआ के ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि बावजूद सहदेवा के लोग बिना बिजली विभाग की अनुमति के हरतुआ गांव में पहुंचे और बिजली के पोल खड़ा करने लगे. इसका उन्होंने विरोध किया. मामला इतना बढ़ गया कि दोनों गांवों के लोगों में विवाद हो गया.

झारखंड में लोकसभा चुनाव कराने में खर्च होंगे 177 करोड़ रुपये

छोटे विवाद ने पकड़ा तूल 

बिजली को लेकर छोटा सा विवाद काफी तूल पकड़ लिया है. हरतुआ के ग्रामीण रामदेयी देवी, मनिता देवी, लालमणि कुंवर, नेहा देवी, फुलमति देवी, महफूज अंसारी, मनउवर अंसारी, आजाद अंसारी समेत अन्य ने सहदेवा और मोतियाखाला के ग्रामीणों पर बंधक बना लेने, जान मारने की धमकी देने और मवेशियों के साथ मारपीट करने का आरोप लगाकर लेस्लीगंज थाना में आवेदन दिया है.

ग्रामीणों का आरोप है कि उन्हें सहदेवा में आने-जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है. मंगलवार को गोबर-जलावन लेने कुछ महिलाएं सहदेवा गांव गयी थी. तीन महिलाओं को वहां के लोगों ने तीन घंटे तक बंधक बनाकर रखा. गाय-बैल चराने के लिए कोई अमानत नदी के उस पार जाता है तो वहां के लोग मार पीट पर उतारू हो जा रहे हैं.

रंगदारों ने पुल निर्माण कार्य स्थल पर की बमबारी, दहशत में ग्रामीण

पाटन-लेस्लीगंज प्रशासन कर रहा मध्यस्थता

बुधवार की सुबह से ही दोनों गांवों के बीच तनाव की स्थिति बनी रही. मामले को शांत कराने के लिए लेस्लीगंज पुलिस, प्रखंड प्रसाशन, विद्युत विभाग के एसडीओ, जेई और पाटन से सीओ, थाना प्रभारी नूतन मोदी, जिला पार्षद नंदकुमार पासवान समझौता के लिए हरतुआ पहुंचे.

दोनों पक्षों के पदाधिकारियों ने ग्रामीणों को शांत कराने की कोशिश की, लेकिन समाचार लिखे जाने तक मामला शांत नहीं हुआ था. किसी बात पर सहमति नहीं बन पा रही थी. दर्जनों महिला-पुरुषों का नदी के दोनों छोर पर जमावड़ा लगा था.

इसे भी पढ़ें – झारखंड कांग्रेस : रांची से सुबोधकांत, सिंहभूम से गीता कोड़ा और लोहरदगा से सुखदेव भगत लड़ेंगे चुनाव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: