JharkhandPalamu

पलामू: चैनपुर में ACB  की कार्रवाई के बाद SP ने किया बड़ा बदलाव,  अब ASI करेंगे मुंशी का काम

Palamu :  पलामू जिले के चैनपुर थाना में कल एसीबी की कार्रवाई में घूस लेते मुंशी और चैकीदार को गिरफ्तार किया गया. इस कार्रवाई के बाद पुलिस की काफी किरकिरी हुई. मामले को गंभीरता से लेते हुए जिले के पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा ने बड़ी कार्रवाई की है. पुलिस अधीक्षक ने नया आदेश जारी करते हुए थाना एवं ओपी में कार्यरत साक्षर आरक्षियों को हटा दिया है.

और उनकी जगह व्यवहार कुशल सहायक अवर निरीक्षकों को काम देखने का निर्देश दिया है. इस सिलसिले में संबंधित अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी और पुलिस अंचल निरीक्षकों को इसका अनुपालन दृढ़तापूर्वक कराने का आदेश जारी किया है.

इसे भी पढ़ेंः Palamu: चार माह से बंद है खामडीह डाकघर, पोस्टमास्टर पर खाताधारकों के रुपये लेकर भागने का आरोप

ram janam hospital
Catalyst IAS

मृदुभाषी एवं व्यवहार कुशल मुंशी के नहीं रहने पर हटाने का निर्देश

The Royal’s
Sanjeevani

पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि ऐसी सूचना मिल रही है कि थाना-ओपी में कार्यरत साक्षर आरक्षी मृदुभाषी एवं व्यवहार कुशल नहीं हैं. थाना में किसी भी कार्य से आने वाले आगन्तुकों से वे अवैध वसूली की फिराक में रहते हैं. इससे थाना में आनेवाले आगन्तुकों में पुलिस के प्रति असंतोष एवं रोष की भावना उत्पन्न होती है. इसका ज्वलंत उदाहरण 26 जून 2020 को चैनपुर थाना में एसीबी की कार्रवाई है.

इस दौरान थाना के सा.आ.855 बिजेन्द्र कुमार राय एवं चैकीदार 2/9 नन्दन मांझी को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, पलामू की टीम द्वारा रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया गया है. यह अन्यंत ही खेद का विषय है. इससे जिला पुलिस की छवि धूमिल हुई है.

इसे भी पढ़ेंः Mission Olympic : सरकार का एक और कदम, खेल एकेडमी के प्लेयर्स के लिए बनेगा 450 बेड का हॉस्टल

साक्षर आरक्षी को हटाकर एएसआई को जिम्मेवारी देने का निर्देश

ऐसे में सभी थाना-ओपी प्रभारी को सख्त रूप से निर्देश दिया जाता है कि अपने-अपने थाना-ओपी में लेखन कार्य कर रहे सभी साक्षर आरक्षी को अविलंब लेखन कार्य से मुक्त करें. थाना-ओपी में पदस्थापित किसी सक्षम एवं व्यवहार कुशल सहायक अवर निरीक्षक से थाना का लेखन कार्य लिया जाये. इस आदेश का अनुपालन सख्ती से किया जाये.

भविष्य में यदि किसी थाना-ओपी में किसी आरक्षी को लेखन कार्य करते हुए पाया गया तो इसे संबंधित थाना-ओपी प्रभारी की अनुशासनहीनता एवं आदेशोल्लंघन मानते हुए उन्हें तत्काल निलंबित कर विभागीय कार्यवाही प्रारंभ कर दी जायगी.

सभी थाना-ओपी प्रभारी तत्काल आदेश का अनुपालन करते हुए लेखन कार्य हेतु चयनित स.अ.नि. का नाम अनुपालन प्रतिवेदन में उल्लेख करते हुए अनुपालन प्रतिवेदन 24 घंटे के अंदर समर्पित करेंगे.

इसे भी पढ़ेंः तेज गेंदबाज थॉमस की फिटनेस को लेकर चिंतित हैं फ्रैंकलिन, अगले माह खेलने हैं तीन टेस्ट मैच

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button