न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Palamu: मेदिनीनगर में भी बनेगा शाहीनबाग, सीएए-एनआरसी के खिलाफ महिलाएं हुई गोलबंद

382

Palamu: सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ शाहीनबाग की तरह पलामू में प्रदर्शन के लिए महिलाएं गोलबंद हो रही हैं. इसके लिए नुक्कड़ सभा की जा रही है. आन्दोलन में अधिक से अधिक महिलाओं को जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – हेमंत सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार, झामुमो के पांच और कांग्रेस के दो मंत्री बने

Aqua Spa Salon 5/02/2020

30 को धरना पर बैठेंगी महिलाएं

मेदिनीनगर की महिलाएं 30 जनवरी को धरना पर बैठेंगी. सोमवार देर रात शहर के कई मुहल्लों में महिलाओं ने नुक्कड़ सभा की. नुक्कड़ सभा गर्ल्स इस्लामिक ऑर्गनाईजेशन के द्वारा किया गया. इसकी अध्यक्षता फातमा इमाम ने की और संचालन स्टूडेंट इस्लामिक ऑर्गनाईजेशन के सदस्य वजदान जुलकरनैन ने किया.

कई स्थानों पर हुई सभा

मेदिनीनगर के मुस्लिम नगर में पहाड़ी मुहल्ला, गम्हेल स्थान मोड़ से सभा की शुरुआत की गयी. उसके बाद पहाड़ी मुहल्ला के हुसैन नगर, कर्बला के मैदान और नूरी मस्जिद चौक के पास नुक्कड़ सभा की गयी. नुक्कड़ सभा में औरतों ने ऐलान किया कि 30 जनवरी को धरना में वें शामिल होंगी और दिल्ली की तर्ज पर मेदिनीनगर में भी एक शाहीनबाग बनायेंगी. नुक्कड़ सभा में संविधान की प्रस्तावना भी पढ़ी गयी.

पुरुषों से ज्यादा महिलाओं की भागीदारी

अध्यक्षता कर रही फातमा इमाम ने कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ आज देश के हर जगहों पर छात्र-छात्राएं, महिलाएं और नौजवान सड़क पर उतरे हुए हैं. उन्होंने कहा कि देशभर में इसके खिलाफ पुरुषों से ज्यादा औरतें सड़क पर हैं. मेदिनीनगर में भी बड़े आन्दोलन की तैयारी है.

इसे भी पढ़ें – देशद्रोह का आरोपी #JNU छात्र शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार

सरकार को वोट बैंक से मतलब 

युवा इंटक के मीडिया चेयरमैन राशिद बक्शी ने कहा कि सरकार को अपने वोट बैंक से मतलब रह गया है. सभी मुद्दों पर फेल हो चुकी सरकार असली मुद्दे से भटक गयी है.

उन्होंने कहा कि देश में सरकार को दुष्कर्मियों पर बिल लाना चाहिए थी, लेकिन सरकार अपने वोट बैंक को मजबूत करने के लिए एनआरसी और सीएए जैसा कानून बनाने की काम कर रही है. सीएए को सरकार खत्म करे और जो संविधान बाबा भीम राव आम्बेडकर ने बनाया था, उसी ही रहने दे.

ये थीं सभा में शामिल

मौके पर जेबा परवीण, जैनब, शाजीया, सरवत फातमा, सफक सलाउद्दीन, रिम्शा, सफुरा, शादीया शाहीन, परवेज अख्तर, नाजीर अरवर, नन्हें जेयाई, अरसलान जुलकरनैन, तौसीफ कमर, अमान खान, रिजवान खान, हाशिम खान, इमरान आलम, बब्लू, रौशन रिजवान एवं राजा कादरी समेत हजारों की संख्या में लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – दिल्ली चुनाव: शाहीनबाग के बहाने भाजपा की कोशिश फिर से सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को परवान चढ़ाना है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like