JharkhandKhas-KhabarPalamuTop Story

पलामू: सेकेंड फेज जलापूर्ति योजना अधर में-एक बार फिर टैंकर से बुझेगी शहर की प्यास

Dilip Kumar

Palamu: पलामूवासियों को एकबार फिर टैंकर पर ही पानी के लिए निर्भर रहना पड़ेगा. यहां सेकेंड फेज पेयजल आपूर्ति योजना पिछले तीन-चार वर्षों से अधर में लटकी हुई है. ऐसे में लगातार पेयजल की किल्लत झेल रहे मेदिनीनगर शहरी क्षेत्र में एक बार फिर टैंकरों से जलापूर्ति की जायेगी.

फिलहाल हर वार्ड को दो टैंकर पानी

ram janam hospital
Catalyst IAS

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

टैंकर जलापूर्ति से शहरवासियों की प्यास बुझाने के लिए सारी तैयारी पूरी कर ली गयी है. रविवार से प्रत्येक वार्ड में दो टैंकर पानी देने की योजना है. इस तरह हर दिन 35 वार्ड में 70 ट्रिप टैंकरों से जलापूर्ति की जायेगी. हालांकि, आवश्यकता अनुसार टैंकरों की ट्रिप बढ़ाने पर भी विचार किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः मध्यप्रदेश कैडर के IPS पति का दबदबा, पत्नी को भी MP में करा लिया प्रतिनियुक्त

अधर में जलापूर्ति योजना

विदित हो कि पिछले तीन-चार वर्ष से फेज टू पेयजल आपूर्ति योजना अधूरी पड़ी है. शहर को फिलहाल पंपूकल से पानी मिलता है. लेकिन इन दिनों कोयल नदी के सूख जाने के कारण जलापूर्ति में भारी परेशानी आ रही है. हालांकि, कोयल नदी में पंपूकल इंटकवेल के आस-पास जेसीबी से खुदायी शुरू की गयी है. इससे जलस्तर में बढ़ोतरी होगी.

वार्ड पार्षद ने करवायी खुदायी

कोयल नदी के ड्राई हो जाने के कारण शनिवार को शहर के आधे से अधिक भागों में पेयजल आपूर्ति नहीं की गई. प्राप्त जानकारी के अनुसार, पंपूकल के किनारे स्थित कोयल नदी में पानी कम हो जाने के कारण लगातार मोटर नहीं चल पा रहा है.

पेयजल समस्या के लिए बैठक करते छत्तरपुर एसडीओ

संवेदक और विभाग की लापरवाही के कारण नदी में खुदाई कार्य अबतक नहीं हो पाया था. इधर शहर में पेयजल के लिए हाहाकार मचने के बाद मेदिनीनगर नगर निगम के वार्ड 17 के पार्षद सह स्थाई समिति सदस्य सुमित कुमार ने कोयल नदी में जेसीबी लगाकर खुदायी करवायी.

विभाग-संवेदक की लापरवाही से जलापूर्ति बंद

पार्षद ने कहा कि पेयजल स्वच्छता विभाग की लापरवाही से शहर के लोगों को पेयजल नहीं मिल रहा है. साथ ही कहा कि यदि नदी में पहले ही खुदाई कर दी जाती तो पेयजल की किल्लत नहीं होती.

उन्होंने आरोप लगाया कि संवेदक एवं विभाग की सांठगांठ से शहर के लोग पेयजल से वंचित हो रहे हैं. मौके पर भाजपा नेता पशुराम ओझा भी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ेंःसरायकेला-खरसावांः प्रमाणिक दस्ते ने विस्फोट कर उड़ाया था बीजेपी कार्यालय

शहर में नहीं होगी पेयजल की किल्लत: कार्यपालक पदाधिकारी

इधर, नगर निगम के कार्यपालक पदाधिकारी विनीत कुमार ने बताया कि शहरी क्षेत्र में पेयजल की किल्लत दूर करने के लिए विभाग प्रयासरत है. उन्होंने कहा कि टैंकर से जलापूर्ति तीन मई से 15 जून तक कराने के लिए संवेदक को कार्यादेश निर्गत कर दिया गया है.

पांच मई से निगम के सभी वार्डों में दो टैंकर के हिसाब से जलापूर्ति शुरू कर दी जायेगी. उन्होंने कहा कि निगम के पास फिलहाल 12 टैंकर हैं और संवेदक के द्वारा भी टैंकर की व्यवस्था की गई है. जिसके माध्यम से पानी की आपूर्ति शुरू कर दी जायेगी.

250 चापाकलों की हुई मरम्मत

कार्यपालक ने कहा कि एक अप्रैल के बाद निगम क्षेत्र में करीब 250 खराब पड़े चापाकलों की मरम्मत की जा चुकी है. जैसे-जैसे निगम को शिकायतें प्राप्त हो रही है. युद्धस्तर पर चापाकलों की मरम्मत की जा रही है.

उन्होंने कहा कि बहुत जल्द छापामारी टीम का गठन कर शहरी क्षेत्र में पानी की चोरी कर रहे लोगों के विरूद्ध कार्रवाई शुरू कर दी जायेगी. साथ ही कहा कि निगम में कर्मियों की कमी के कारण कार्य में बाधा उत्पन्न हो रही है, लेकिन जो कर्मी उपलब्ध हैं वह कार्य के प्रति गंभीर हैं.

इसे भी पढ़ेंःभौंराः गैस रिसाव के कारण 35 नंबर खदान हुआ बंद, जांच के बाद ही फिर शुरू होगा काम

उद्घाटन के बाद शुरू होगी जलापूर्ति

इस संबंध में संवेदक चंचल मिश्रा ने कहा कि पांच मई को टैंकर जलापूर्ति योजना का उद्घाटन कर शहरी क्षेत्र में तेजी से पेयजलापूर्ति शुरू कर दी जायेगी. इससे पेयजल की किल्लत झेल रहे लोगों को राहत मिलेगी.

छत्तरपुर में चापाकल मरम्मत के लिए बनेगा कैलेंडर, टैंकरों से जलापूर्ति

छत्तरपुर में पेयजल के लिए मचे हाहाकार पर नियंत्रण पाने के लिए छत्तरपुर अनुमंडल प्रशासन गंभीर हो गया है.

शनिवार को पेयजल को लेकर छतरपुर अनुमण्डल क्षेत्र के सभी बीडीओ, सीओ, पेजयल के सहायक अभियंता, कनीय अभियंता और मुखिया के साथ अनुमंडल पदाधिकारी एनपी गुप्ता ने बैठक की.

बैठक में उपलब्ध संसाधनों के द्वारा पेयजल सुचारू रखने पर विचार-विमर्श किया गया. सभी को प्रखंड स्तर की बैठक सोमवार तक करने का निर्देश दिया गया, जिसमें मुखिया, पंचायत समिति सदस्य, रोजगार सेवक, जलसहिया, सेविका, डीलर को बुलाकर हर ग्राम में खराब चापाकल व खराब चापाकलों की सूची बनायी जाये. साथ ही उसकी मरम्मत करायी जाए.

एसडीओ ने कहा कि अभी पीएचईडी से दो वाहन चापाकल मरम्मत हेतु प्राप्त है. इसके बेहतर इस्तेमाल के लिए हर पंचायत के लिए तिथि निर्धारित कर कैलेंडर बना दिया जाये व मुखिया की जानकारी में चापाकल की मरम्मत की जाये.

कहां-कितने टैंकरों से होगी जलापूर्ति

एसडीओ ने कहा कि अनुमंडल क्षेत्र के पिपरा में 3, हरिहरगंज में 6 नौडीहा बाजार क्षेत्र में 8 और छतरपुर में 15 टैंकरों से जलापूर्ति सुनिश्चित करायी जाये.

रोस्टर वॉर प्रत्येक पंचायत में प्राथमिकता के आधार पर पेयजल की आपूर्ति अगले सप्ताह से शुरू करने में सहमति बनी. सभी लोगों ने सोलर जलमीनार बनाने की बात कही. जिसका प्रस्ताव बनाकर प्राप्त राशि से काम करने का अनुरोध जिला से किया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःगिरिडीहः जहर खाकर प्रेमी जोड़े ने दी जान, कारणों का खुलासा नहीं

Related Articles

Back to top button