न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : सड़क दुर्घटनाएं लापरवाही का नतीजा, जागरूकता फैलाने वाली संस्थाओं को मिलेंगे दो लाख रुपये

36

Palamu : जिले में लगातार हो रही सड़क दुर्घटनाओं पर सड़क सुरक्षा परिषद के सदस्य रविन्द्र तिवारी ने चिंता व्यक्त की है. परिसदन में सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए परिषद सदस्य ने कहा कि, पलामू सहित  सूबे में दुर्घटनाओं में 90 प्रतिशत मामले लापरवाही के ही देखे गये हैं. पलामू में पिछले 72 घंटे के दौरान सात लोगों की मौत सड़क हादसे में हो गयी है. जबकि दो दुर्घटनाएं यातायात नियमों के उल्लंघन करने से हुईं, जिसमें तीन युवकों की मौत हुई.

mi banner add

परिषद सदस्य ने कहा कि पलामू सहित राज्य में अच्छी सड़कें बन रही हैं. जिससे लोग वाहन तेज चलाते हैं और हादसे के शिकार हो जाते हैं. लेकिन वाहन चलाने के साथ-साथ यातायात नियमों का भी पालन करना जरूरी है. ऐसा नहीं होने से ही दुर्घटनाएं होती हैं.

इसे भी पढ़ें – CNT उल्लंघन मामले में कल्पना सोरेन और जमीन बेचने वाले राजू उरांव को नोटिस

‘लोगों को जागरूक करना जरूरी’

साथ ही उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों में जो सड़क सुरक्षा समिति बनी है, उसमें समाज के हर वर्ग को शामिल किया गया है. लेकिन झारखंड में ऐसा नहीं है. यहां की समिति में भी समाज के व्यवसायी, स्वयं सेवी संस्थाओं, सामाजिक कार्यकर्ता सहित समाज को गति देने वाले सशक्त लोगों को शामिल किया जाना चाहिए. जिससे सड़क सुरक्षा पर बेहतर परामर्श मिल सके.

Related Posts

RTI से मांगी झारखंड में बाल-विवाह की जानकारी, BDO ने दूसरे राज्यों की वेबसाइट देखने को कहा

मेहरमा की बीडीओ ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के जनजातीय विभागों के लिंक देकर लिखा, इन्हीं वेबसाइट पर मिलेगी जानकारी

उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने पर संबंधित संस्था को सड़क-परिवहन विभाग की ओर से दो लाख रूपया प्रति वर्ष मुहैया कराया जायेगा. सड़कों पर दौड़ रही मौतों को कम करने के लिए जागरूकता बेहद जरूरी है.

रविंद्र तिवारी ने अभिभावकों से भी आग्रह किया कि 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को दो या चार पहिया वाहन चलाने के लिए परमिशन ना दें. साथ ही कहा कि बिना ड्राइविंग लाइसेंस और हेलमेट पहने कोई भी युवक-युवती वाहन न चलाएं.  इसके लिए जिला प्रशासन को अपनी जवाबदेही सुनिश्चित करनी होगी. इस दौरान मौके पर डीएसपी भोला प्रसाद सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – नक्सल प्रभावित इलाकों में सिर्फ कागजों में है सरयू एक्शन प्लान, बकोरिया फर्जी नक्सल मुठभेड में मारे गये पांचों नाबालिग इसी इलाके के

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: