NEWS

पलामू: मृतकों के नाम पर हो रहा राशन उठाव, निलंबित डीलर ने बना रखे हैं मृत पिता-दादा सहित परिवार के सदस्यों के पांच राशन कार्ड

Palamu :  जनवितरण प्रणाली में अंधेरगर्दी पूरी तरह हावी है. इसकी बानगी पलामू जिले के पांकी प्रखंड के आसेहर के निलंबित जनवितरण दुकानदार नंदकिशोर मेहता के यहां देखने को मिली. यहां लंबे समय से मरे हुए लोगों के नाम पर भी राशन का उठाव किया जा रहा है.

निलंबन से पूर्व डीलर द्वारा स्वयं, अपने पिता एवं दादा के साथ साथ बेटे के नाम पर फर्जी तरीके से राशन का उठाव किया गया. इन्होंने अपने परिवार के नाम पर पांच अवैध अंत्योदय राशन कार्ड बना रखा हैं. और वर्षों से राशन का गोलमाल कर रहा हैं.

इसे भी पढ़ेंः Dark Web :  इंटरनेट पर एक लाख रुपये लीटर बिक रहा है ठीक हो चुके कोरोना पॉजिटिव का खून – ANU

ram janam hospital
Catalyst IAS

बेटे दो, लेकिन तीन हैं राशन कार्ड

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

पूर्व डीलर के दो बेटे है, लेकिन बेटे के नाम पर तीन राशन कार्ड क्रमशः रंजीत कुमार मेहता, पिता नंदकिशोर मेहता कार्ड संख्या (202005393478) नन्द कुमार मेहताख् पिता नन्द किशोर मेहता कार्ड संख्या (202005562617) संतोष कुमार, पिता नन्द किशोर मेहता कार्ड संख्या (202005560935) नंद किशोर महतो पिता परमेश्वर महतो कार्ड संख्या (202004890174) एवं अपने दादा इन्द्रदेव महतो पिता स्वर्गीय परमेश्वर महतो कार्ड संख्या (202005558700) के नाम एक राशन कार्ड अपने पास रखे हैं. इनके पिता परमेश्वर महतो, दादा इन्द्रदेव महतो दोनों इस दुनियां में नहीं है, लेकिन ये राशन खा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः #Lockdown : 1393 बच्चों को लेकर कोटा से शनिवार की रात रवाना होगी स्पेशल ट्रेन, जांच के बाद भेजा जायेगा घर

दुकान का लाइसेंस रद्द कर प्राथमिकी दर्ज  हो : डॉ मेहता

इस संबंध में विधायक कुशवाहा डॉ शशिभूषण मेहता ने कहा कि इतनी बड़ी अनियमितता हो रही है. निश्चित ही विभागीय मिलीभगत है. विभाग इसकी रिकवरी करे और इनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए. पूरे विधानसभा में ऐसे सैकड़ों मामले हैं. परत दर परत मामले उजागर हो रहे हैं.

जांच की जा रही है, होगी राशन की रिकवरी: एमओ

पांकी के आपूर्ति पदाधिकारी छोटे लाल ने कहा कि पूर्व डीलर नंदकिशोर मेहता द्वारा मरे हुए लोगों के नाम पर सहित तीन चार अवैध राशन कार्ड रखे रहने की सूचना मिली है. तीन महीने पहले उपभोक्ताओं से गाली गलौज और कम राशन देने के आरोप में उसकी पीडीएस दुकान की अनुज्ञप्ति रद्द कर दी गयी थी.

वर्तमान में अरविंद साव के पास उपभोक्ताओं की पूरी लिस्ट है. डीलर से वितरण पंजी मांगी गयी है. मिलान कर जांच की जाएगी और राशन लेने की पुष्टि होने पर रिकवरी की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः मजदूरों की वापसी: पूर्व BJP नेता ने की CM हेमंत की सराहना, कहा- भाजपा को श्रेय लेने की राजनीति नहीं करनी चाहिये

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button