न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : चांसलर पोर्टल पर उठे सवाल, ऑफलाइन नामांकन नहीं लेने पर आंदोलन की धमकी

22

Palamu: डिजिटल भारत बनाने के लिए सारे कार्य ऑनलाइन करने की तैयारी चल रही है.  लेकिन प्रक्रिया के जटिल होने की वजह इसमें परेशानियां आती हैं. नीलाम्बर-पीताम्बर विश्वद्यालय में चांसलर पोर्टल से नामांकन की सुविधा उपलब्ध होने के बाद कुछ इसी तरह की समस्या आ खड़ी हो गयी है.

छात्रों को इससे भारी परेशानी हो रही है. नामांकन के लिए छात्र-छात्राओं को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

अभाविप ने सौंपा कुलपति को ज्ञापन

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की पलामू इकाई ने चांसलर पोर्टल की प्रक्रिया को जटिल बताते हुए गुरूवार को कुलपति डा. एसएन सिंह को ज्ञापन सौंपा.

अभाविप के कार्यकर्ता ने कहा कि चांसलर पोर्टल से हो रहे नामांकन के बजाय विश्वविद्यालय अपनी व्यवस्था से नामांकन की सुविधा उपलब्ध कराएं. चांसलर पोर्टल में जटिलता होने के कारण विद्यार्थियों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें – सीएनटी ही नहीं आर्मी की जमीन पर भी माफिया ने कर लिया कब्जा और देखता रहा प्रशासन-1

नामांकन का अधिक बोझ बढ़ा

अभाविप ने यह भी कहा कि विश्वविद्यालय के अंतर्गत किसी महाविद्यालय में ऑफलाइन नामांकन नहीं होने से छात्रों पर नामांकन का अधिक बोझ पड़ रहा है. ऑफलाइन नामांकन अविलंब चालू किया जाए.

डिजिटलाइजेशन के नाम पर विश्वविद्यालय की स्वायत्तता को समाप्त करने का प्रयास ना किया जाए. विश्वविद्यालय अपनी व्यवस्था को सूदृढ़ करते हुए नामांकन की प्रक्रिया शुरू करें, अन्यथा छात्रहित में परिषद उग्र आंदोलन को बाध्य होगी, जिसकी संपूर्ण जवाबदेही विश्वविद्यालय प्रशासन की ही होगी.

ज्ञापन सौंपने वालों में कौन-कौन?

ज्ञापन सौंपने वालों में प्रदेश सह मंत्री सुश्री स्नेहा गुप्ता, विश्वविद्यालय संयोजक राजीव रंजन पांडे, विभाग संयोजक विकास तिवारी, जिला संयोजक विनीत पांडे,  प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राज किशोर सिंह मंजूल शुक्ला, बालमुकुंद दुबे, सुमित पाठक, अंकुर, गोविंद मेहता, सौरभ कुमार पांडे, पवन कुमार वर्मा, मिथिलेश कुमार, गोविंद कुमार मेहता, मुकेश कुमार, आरती पाठक, प्रिया पाठक, शिवानी पाठक, निधि पाठक सहित अन्य शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – यौन उत्पीड़न मामले में बढ़ी प्रदीप यादव की मुश्किलें, दो दिनों के अंदर पक्ष रखने का नोटिस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: