Corona_UpdatesJharkhandPalamu

पलामू: कोरोना की कोविशील्ड वैक्सीन लगने के बाद बीमार पड़े प्रोफेसर ने तोड़ा दम, 30 मार्च को लगा था टीका

Palamu: कोविड-19 की वैक्सीन कोविशील्ड लगने के बाद बीमार पड़े प्रोफेसर कमल नयन शर्मा (55वर्ष) की मौत हो गयी. प्रोफेसर को गत 30 मई को मेदिनीनगर के ओल्ड सदर ब्लाॅक स्थित स्वास्थ्य केन्द्र में वैक्सीन लगायी गयी थी.

वैक्सीन लेने के अगले दिन प्रोफेसर बीमार पड़ गए थे. इलाज चल रहा था. गुरूवार की रात 9.30 बजे शहर के आनन्द मोटर्स शोरूम सामने स्थित आवास पर उनका निधन हो गया.

advt

प्रो. कमल नयन शर्मा के बड़े पुत्र तनिष्क शर्मा ने बताया कि गत 30 मार्च को वैक्सीन लगाने के अगले दिन उनके पिता बीमार पड़ गए थे. बुखार हो गया था. दिन प्रतिदिन कमजोर होते चले गए. उठने बैठने में उन्हें परेशानी होने लगी थी.

इस बीच उनका इलाज भी कराया गया. कोविड टेस्ट भी कराया गया, लेकिन रिपोर्ट निगेटिव आयी। डाक्टर रिकवरी की सलाह दे रहे थे, लेकिन कल रात 9.30 बजे उन्होंने आवास पर दम तोड़ दिया.

प्रो. कमल नयन शर्मा मैथ के शिक्षक थे और योध सिंह नामधारी महिला कॉलेज में घंटी आधारित शिक्षक के तौर पर बहाल थे. इससे पहले वे टयूशन पढ़ाया करते थे. 6-7 वर्ष पहले उनकी जॉब लगी थी. वे मूल रूप से बिहार के रहने वाले थे.

प्रो. कमल नयन शर्मा के निधन की सूचना मिलने पर महिला कॉलेज के कई शिक्षक और शिक्षाकर्मी उनके आवास पर पहुंचे और परिजनों से मिलकर ढाढस बंधाया. प्रो. कमल नयन शर्मा की पत्नी की शिक्षिका हैं. उनके दो पुत्र हैं.

इसे भी पढ़ें :CORONA UPDATE : बिहार में 18 अप्रैल तक स्कूल-कॉलेज बंद, जानिये और क्या बरती गयी सख्ती….

मौत को संयोग माना जा सकता है: सीएस

पलामू के सीएस डा. जॉन एफ कनेडी ने बताया कि प्रो. कमल नयन शर्मा की मौत को संयोग माना जा सकता है. टीका लगने के 7-8 दिनों के बाद निधन होना दुखद है. मामले में टीका में खामियां निकालना कहीं से भी न्याय संगत नहीं होगा. अगर टीका लगने के बाद तुरंत बाद ऐसी स्थिति बनती तो कुछ कहा जा सकता था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. मौत से टीकाकरण पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें :Good News : अब भारत में भी आने की तैयारी में जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: