JharkhandPalamu

पलामू: लाखों रूपये गबन का आरोपी खामडीह डाकघर का पोस्टमास्टर गिरफ्तार, जांच जारी

Palamu: जिले के सतबरवा प्रखंड के खामडीह के पोस्टमास्टर अरविंद कुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया गया है. पोस्टमास्टर  ने चार माह से उप डाकघर को बंद रखा था और लाखों रूपये गबन कर फरार चल रहा था. खाताधारक से लेकर डाक विभाग के पदाधिकारी पोस्टमास्टर को ढूंढने में लगे थे. इसी बीच ग्रामीणों ने उसे धर दबोचा और पुलिस के हवाले कर दिया.

इसे भी पढ़ें –  Weather Update: बिहार में भारी बारिश की चेतावनी, 8 जिलों में रेड अलर्ट

नाटकीय ढंग से पकड़ा गया पोस्टमास्टर

खामडीह डाकघर का पोस्टमास्टर अरविंद कुमार गुप्ता मेदिनीनगर से भागने की फिराक में था. नाटकीय ढंग से शनिवार को उसे पकड़ा गया. टीओपी-2 के बाद उन्हें मेदिनीनगर टाउन थाना ले जाया गया. ग्रामीणों ने रात में ही मेदिनीनगर के डाक अधीक्षक को इस संबंध में जानकारी दी.

इसके बाद डाक अधीक्षक ने डाक निरीक्षक उत्तम कुमार को मेदिनीनगर थाना भेजा. ग्रामीण आशीष मेहता ने बताया कि दो नंबर टाउन में बीएम का आलिशान बिल्डिंग है. मेदिनीनगर के आवास पर जाने के क्रम में बाईक से बीएम साहब को रोककर पूछताछ करने लगे. इसी दौरान वह भागते हुए दो नंबर टीओपी में घुस गये.

डाक निरीक्षक पूर्वी उतम कुमार ने रविवार को खामडीह डाकघर के पोस्टमास्टर पर विभाग का पैसा हेरफेर करने का मामला दर्ज कराया. पुलिस को दिये गये आवेदन में विभाग के करीब तीन लाख रूपया हेरफेर करने का आरोप शामिल है.

वहीं खामडीह डाकघर के अंतर्गत पड़नेवाले शंभूचक के तीन और बारी के एक ग्रामीण ने पोस्टमास्टर पर कई तरह के आरोप लगाकर लाखों रूपया डाकघर में जमा कराने के नाम पर पैसा लेकर झांसा देने का आरोप लगाया है. ग्रामीणों में आशीष मेहता, अजय सिन्हा, राजमोहन महतो, सीताराम चौधरी शामिल है.

थाना प्रभारी रूपेश कुमार दुबे ने खामडीह डाकघर के पोस्टमास्टर पर सतबरवा थाना कांड संख्या 78/2020 के तहत गबन का मामला दर्ज किये जाने की पृष्टि की है. इधर, डाक निरीक्षक उतम कुमार ने बताया कि सोमवार से खामडीह डाकघर के अधीन आने वाले लाभुकों के लिये समस्या समाधान शिविर का आयोजन किया गया है. लाभूकों को पोस्टमास्टर से शिकायत संबंधी शिविर में तथ्य की जांच की जाएगी.

पोस्टमास्टर पर लगे आरोप सही हुए तो लाखों के गबन का मामला  

खामडीह डाकघर के बीएम पर जो आरोप ग्रामीणों ने लगाये हैं. अगर सही साबित हुए तो लाखों के गबन का मामला सामने आ सकता है. बताया गया कि सैकड़ों बच्चों के नाम पर सुकन्या समृद्धि योजना का खाता खोला गया है. प्रति बच्चे पांच हजार की राशि ली गयी है. चार दर्जन लोगों ने डाकघर में पैसा जमा और फिक्स कराया था. कई को पासबुक दिये बगैर पैसा जमा करा लिया गया है. जबकि कई लोगों का पासबुक ऑनलाइन कराने के नाम पर बीएम ने ले लिया था. रविवार को डाक निरीक्षक उतम कुमार खामडीह गांव के डाकघर गये और कई रिकॉर्ड मेदिनीनगर ले गये.

इसे भी पढ़ें –यूनिक बच्ची का जन्म! न हाथ-न पैर, देखने लिए दूर-दूर से आ रहे लोग, डॉक्टर हैरान

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close