न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: तालाब में शरारती तत्वों ने डाला जहर, 10 क्विंटल मछलियां मरी, टूटी मछली पालकों की कमर

मत्स्य पालकों ने उचित मुआवजा देने की मांग की है

525

Palamu: जिले के हरिहरगंज प्रखंड अंतर्गत तेन्दुआ कला गांव के बड़ा तालाब में किसी ने जहर जाल दिया, जिससे करीब 10 क्विंटल मछलियां मर गयी. इतनी संख्या में मछलियों के मरने से मछली पालन करने वाले छोटे व्यवसायियों की कमर टूट गयी है. व्यवसायियों को करीब डेढ़ से दो लाख का आर्थिक नुकसान हुआ है. तालाब में किसने जहर डाला इसका खुलासा नहीं हो पाया है. मत्स्य पालकों ने इस मामले की जांच कर  कार्रवाई करने और उचित मुआवजा देने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – सुप्रीम कोर्ट ने मीड डे मील का ऑनलाइन लिंक नहीं देने पर झारखंड पर 50 हजार का जुर्माना ठोका

इस मामले में बताया जा रहा है कि तालाब में बुधवार की रात शरारती तत्वों ने जहर डाल दियाय जिससे तालाब की 10 क्विंटल छोटी-बड़ी मछलियां मर गयीं. इस घटना के बाद से मत्स्य पालकों में भारी निराशा है. मालूम हो कि यह तालाब हरिहरगंज प्रखंड मत्स्यजीवी सहयोग समिति लिमिटेड के द्वारा बंदोबस्त है. इसका उपयोग मछली पालन के लिए ही होता है.

hosp1

इसे भी पढ़ें – पूर्व CJI ने दी लिटिगेशन पॉलिसी बनाने की सलाह, मॉब लिंचिंग को बताया कानून की विफलता

मछली पालन से समिति के लोग चलाते हैं आजीविका

समिति में अध्यक्ष पिंटू चौधरी, सचिव रामरूप चौधरी, राघवेन्द्र सिंह उर्फ अकालू सिंह, सुरेश चौधरी, गिरिवर चौधरी, उपेन्द्र चौधरी, रामनाथ चौधरी सहित करीब चालीस सदस्य हैं. जो मछली पालन से ही अपनी आजीविका चलाते हैं. इस घटना के संबंध में अकालू सिंह ने बताया कि तालाब में रेहू, कोमलकार, ग्लास्कार्फ सहित कई प्रकार की मछलियां थीं. मछलियों का वजन बढ़ने के लिए ही पिछले वर्ष तालाब में ही उन्हें छोड़ दिया गया था. जिनमें अधिकतर मछलियां 1 से 15 किलो की हो गई थीं. साथ ही बताया कि इसी महीने नया बिचड़ा भी तालाब में डाला गया था. लेकिन अब तालाब का पानी जहरीला होने से छोटी-बड़ी सारी मछलियां मरी गयी हैं.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा 2019: बैलट पेपर से मतदान कराने की मांग को लेकर 17 दलों के नेता चुनाव आयोग से मिलेंगे

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: