lok sabha election 2019Palamu

पलामू संसदीय सीट के लिए दो नामांकन, पूर्व सांसद जोरावर राम ने खरीदा फार्म

Palamu: पलामू संसदीय सीट के लिए चल रही नामांकन प्रक्रिया के चौथे दिन शुक्रवार को दो प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया. निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर गढ़वा के मझिआंव निवासी विजय राम और भारतीय समानता समाज पार्टी से सत्येन्द्र पासवान ने जिला निर्वाचन पदाधिकारी डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि के समक्ष अपना पर्चा दाखिल किया.

जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने बताया कि नामांकन पत्र दाखिल करने वाले प्रत्याशियों में 36 वर्षीय विजय राम और 40 वर्षीय सत्येंद्र कुमार पासवान शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंः सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों को भरना मुश्किल, इस साल रिटायर हो जायेंगे 33 विभागों के 3359 कर्मचारी

दो लोगों ने किया नामांकन

गढ़वा के मझिआंव खुर्द निवासी विजय राम निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन पत्र दाखिल किया है, जबकि कांडी के पतरिया निवासी सत्येंद्र कुमार पासवान ने भारतीय समानता समाज पार्टी से नामांकन पत्र दाखिल किया है.

पूर्व सांसद जोरावर राम सहित दो ने खरीदा नामांकन फॉर्म

पलामू लोकसभा सीट के लिए शुक्रवार को जहां दो नामांकन दाखिल हुए, वहीं पलामू के पूर्व सांसद जोरावर राम और चैनपुर के नरसिंहपुर पथरा निवासी उदय पासवान ने नामांकन फॉर्म खरीदा.

इस तरह पलामू संसदीय सीट से नामांकन फॉर्म खरीदने वालों की संख्या 19 हो गयी है. गत 2 अप्रैल से नामांकन की प्रक्रिया शुरू की गयी है. चार दिन बीत जाने के बाद भी नामांकन में तेजी नहीं आयी है. हालांकि नामांकन फार्म बिकने का सिलसिला इन चार दिनों में काफी तेज रहा.

इसे भी पढ़ेंः दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को नहीं मिल रहा झारखंड जैसे छोटे राज्य में अदद उम्मीदवार

पूर्व सांसद जोरावर राम ने राजद को कहा अलविदा

राष्ट्रीय जनता दल के लिए शुक्रवार को बुरी खबर आयी. पूर्व मंत्री और पलामू से सांसद रहे जोरावर राम ने पार्टी से रिजाइन कर दिया है. जोरावर राम ने बताया कि 30 मार्च को राजद के प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा के नेतृत्व में राज्य कार्यकारिणी की बैठक हुई.

बैठक में उन्हें भी आमंत्रित किया गया था. लोकसभा चुनाव पर चर्चा हुई. 80 लोगों ने अपनी बात रखी, लेकिन जब उन्होंने बोलने की बात कही तो प्रदेश अध्यक्ष ने मना कर दिया.

श्री राम ने आरोप लगाया कि गौतम सागर राणा हिटलर की तरह पेश आते हैं. उन्हें शायद मालूम नहीं कि जर्मनी में हिटलरशाही चलती है, भारत में लोकतंत्र कायम है. पूर्व सांसद ने कहा कि हिटलर जैसी प्रवृति वाले लोगों की पार्टी में रहना उचित नहीं है. ऐसे में उन्होंने पार्टी को अलविदा कहना उचित समझा.

इसे भी पढ़ेंःलालू ने किया दावाः महागठबंधन में वापस आना चाहते थे नीतीश, प्रशांत किशोर को भेजा था मिलने

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close