Education & CareerJharkhandPalamu

पलामू : ऑनलाइन स्मार्ट क्लास की शुरुआत, वर्ग 9 से 12 के बच्चें होंगे लाभान्वित

Palamu : कोरोना की वजह से देश, राज्य व जिले में सबसे ज्यादा शिक्षा का क्षेत्र प्रभावित हुआ है, जहां निजी व सरकारी स्कूल, कॉलेज सहित अन्य शिक्षण संस्थान बंद हैं. निजी विद्यालय अपने स्तर से बच्चों को ऑनलाइन क्लासेज की सुविधा उपलब्ध करा रहे हैं, लेकिन सरकारी विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह बाधित हुई है. ऐसे हालात में बच्चों की पढ़ाई का एकमात्र जरिया ऑनलाइन क्लास ही है. इसी के मद्देनजर जिले के उपायुक्त शशि रंजन ने पहल करते हुए जिले के सरकारी स्कूलों में पढ़ाई कर रहे बच्चों के लिए ऑनलाइन स्मार्ट क्लास की सुविधा प्रारंभ की है.

उपायुक्त शशि रंजन ने बताया कि प्रथम चरण में वर्ग 9 से 12 के बच्चों के लिए स्मार्ट क्लासेज की व्यवस्था की गयी है, जहां सोमवार से शनिवार तक प्रत्येक दिन अलग-अलग विषय के शिक्षकों द्वारा 4 क्लास लिया जायेगा. क्लासेज सुचारू रूप से चले, इसके लिए रोस्टरवार शिक्षकों की नियुक्ति भी कर दी गयी है. उन्होंने बच्चों एवं अभिभावकों से इस स्मार्ट क्लास से जुड़कर लाभ लेने की अपील की है.

इसे भी पढ़ें : टीम इंडिया को बड़ा झटकाः श्रीलंका में टी-20 मुकाबले से सूर्य, इशान, हार्दिक समेत छह खिलाड़ी बाहर

advt

समाहरणालय में बनाया गया हाइटेक स्टूडियो

स्मार्ट क्लास के लिए समाहरणालय के ब्लॉक सी में एक हाइटेक स्टूडियो बनाया गया है. इसे बेहतर तकनीकी उपकरणों से लैश किया गया है. इस स्टूडियो में रोस्टर वार शिक्षक अपना क्लास रिकॉर्ड करते हैं जिसके पश्चात संबंधित वीडियो रिकॉर्डिंग को विभिन्न स्तरों पर बने व्हाट्सएप ग्रुप में शेयर कर दिया जाता है. प्रत्येक स्कूलों द्वारा 9 से 12 वर्ग के बच्चों का अलग-अलग व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है. इसके अलावे जूम के माध्यम से जुड़कर बच्चों के साथ इंटरएक्टिव क्लास लेने की भी व्यवस्था की गयी है. क्लास में ज्यादा से ज्यादा बच्चे जुड़ सकें, इसके लिए जूम के लिंक को एक दिन पहले ही विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुप में प्रसारित कर दिया जाता है. इसके अलावे क्लासेज की रिकॉर्डिंग को डीसी पलामू के यूट्यूब चैनल पर भी प्रसारण किया जाता है.

बच्चों के लिए वरदान साबित होगा यह स्मार्ट क्लासरूम : उपायुक्त

उपायुक्त शशि रंजन ने कहा कि कोरोना काल में बच्चों के लिए यह स्मार्ट क्लास वरदान साबित होगा. उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से बच्चों से शिक्षकों का जुड़ाव बना रहेगा. स्मार्ट क्लासरूम का यह भी फायदा है कि यदि किसी विद्यार्थी का क्लास किसी वजह से छूट जाता है तो वह क्लास का रिकॉर्डिंग बाद में भी देख सकता है. घर बैठे छात्र अपना क्लास अटेंड कर सकेंगे. उन्होंने अभी छात्र-छात्राओं से स्मार्ट क्लास से जुड़कर अपने पढ़ाई पर फोकस रहने की अपील की.

इसे भी पढ़ें :  हाईकोर्ट ने एसएसपी को बुलाकर पूछा, अधिवक्ता मनोज झा हत्याकांड में पुलिस ने क्या कार्रवाई की?

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: