Crime NewsJharkhandPalamu

पलामू: पांकी के मतनाग से एक व्यक्ति का अपहरण, 10 लाख की फिरौती मांगी

  • आपसी विवाद मानकर छानबीन में जुटी पुलिस, हत्या की धमकी

Palamu : पलामू जिले के पांकी थाना क्षेत्र के मतनाग निवासी विश्वनाथ यादव का अपहरण कर लिया गया है. गुरूवार की शाम द्वारिका बाजार से घर लौट रहा था, इसी रास्ते में उसका अपहरण कर लिया गया. अपहर्ताओं ने उसे छोड़ने के एवज में 10 लाख की फिरौती मांगी है. फिरौती नहीं देने पर हत्या की धमकी दी है.

लेस्लीगंज के एसडीपीओ अनूप बड़ाइक ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि विश्वनाथ यादव के अपहरण का मामला सामने आया है. इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज की गयी है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

पांकी पुलिस को पूरे मामले का छानबीन करने का निर्देश दिया गया है. पांकी के थाना प्रभारी जे.के. रमण ने बताया कि फौरी तौर पर मामला आपसी विवाद से जुड़ा हुआ प्रतीत हो रहा है. पुलिस ने तहकीकात तेज कर दी है.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें : लातेहार : सात हजार रिश्वत ले रहे थे पुलिस इंस्पेक्टर, एसीबी ने धर दबोचा, मुकदमे में मदद के लिए ले रहे थे घूस

महिला के साथ देखा गया था

थानेदार ने बताया कि विश्वनाथ यादव गुरूवार की शाम द्वारिका बाजार गया था. वहां से एक महिला के साथ घर के लिए निकला. पथलाही मोड़ पर महिला वाहन से उतरकर अपने घर चली गयी, जबकि विश्वनाथ यादव मतनाग के लिए आगे बढ़ गया.

इसके बाद से वह लापता है. थानेदार ने कहा कि केकरगढ़ के मुखिया राजेन्द्र यादव के साथ विश्वनाथ यादव का विवाद था. मुखिया की वित्तीय शक्ति जब्त कराने में विश्वनाथ का रोल सामने आया था.

परिजनों के द्वारा राजेन्द्र के भाई और ईश्वरी यादव के पिता वासुदेव यादव, सीटा यादव और गुड्डू यादव की संलिप्तता बतायी गयी है.

इसे भी पढ़ें : 1.35 करोड़ की लागत से बने बर्न वार्ड में गौज बैंडेज व जेली तक नहीं

गुरूवार की शाम फोन कर मांगी गई फिरौती

विश्वनाथ कुमार के पुत्र शंकर कुमार ने बताया कि गुरुवार की शाम 6.59 बजे पर कुछ लोगों ने फोनकर बताया कि उसके पिता विश्वनाथ यादव का अपहरण कर लिया गया है. 10 लाख रूपए पहुंचा दो और नहीं तो विश्वनाथ यादव की हत्या कर दी जायेगी.

फोन पर मौजूद शख्स ने इसकी जानकारी किसी को नहीं देने की चेतावनी दी. हालांकि इसके बाद शंकर के द्वारा धमकी वाले फोन नंबर पर संपर्क करने की कोशिश की गयी, लेकिन फोन लगातार बंद पाया गया.

पुनः रात 7.41 मिनट पर फोन आया और बोला गया कि 11 दिसंबर को 11 बजे पूर्वाहन तक का टाइम दिया जा रहा है. फिर बात करेंगे.

एक माह पहले अगवा कर लेने की दी गयी थी धमकी

शंकर यादव ने अपने आवेदन में कहा है कि लगभग एक माह पहले इश्वरी यादव के पिता वासुदेव यादव और भाई सीटा यादव व गुड्डू यादव ने धमकी दी थी की पुल निर्माण में विश्वनाथ यादव ने बहुत पैसा कमाया है. जल्द उसे अगवा कर लेंगे.

शंकर ने आशंका व्यक्त की है कि ईश्वरी यादव, वासुदेव, सीटा और गुड्डू यादव ने मिलकर उसके पिता का अपहरण किया है. उसके पिता की हत्या की नियत से अपहरण किया गया है.

इसे भी पढ़ें : रेल यात्रियों के लिए रिजर्वेशन फार्म में फोन नंबर दर्ज कराना हुआ अनिवार्य, जानिये मिलेंगी कौन-कौन सी सुविधाएं

Related Articles

Back to top button