JharkhandPalamu

पलामू: पीएनबी के लॉकर कांड के मास्टरमाइंड समेत तीन रिमांड पर, दो दिनों तक हुई पूछताछ

Palamu : चर्चित पीएनबी लॉकर घोटाला कांड के मास्टरमाइंड पंजाब नैशनल बैंक की मेदिनीनगर धर्मशाला रोड शाखा के डिप्टी मैनेजर प्रशांत कुमार समेत तीन को पूछताछ के लिए दो दिनों के रिमांड पर लिया गया. दो दिनों तक पूछताछ के बाद तीनों को बुधवार को सेंट्रल जेल भेज भी दिया गया. डिप्टी मैनेजर के अलावा दो स्वर्ण व्यवसायी कपिल सोनी और जितेंद्र सोनी को रिमांड पर लिया गया था.

शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अरूण कुमार महथा ने बताया कि पिछले दिनों आईसीआईसीआई बैंक और पीएनबी की ओर से पीएनबी की धर्मशाला रोड शाखा के डिप्टी मैनेजर प्रशांत कुमार समेत अन्य के खिलाफ अलग अलग धोखाधड़ी से संबंधित प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी.

मामले में अनुसंधान के एंगल से पूछताछ के लिए डिप्टी मैनेजर प्रशांत कुमार, स्वर्ण व्यवसायी कपिल सोनी और जितेंद्र सोनी को दो दिनों के रिमांड पर लिया गया था. तीनों से पूछताछ की गयी. डिप्टी मैनेजर ने धोखाधड़ी मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है.

इसे भी पढ़ें : चार फरवरी से खुलेंगे स्कूल, तय समय पर होगी मैट्रिक-इंटर की परीक्षा : जगरनाथ महतो

रिमांड की अवधि पूरा होने पर तीनों को आज पुनः सेंट्रल जेल भेज दिया गया.

विदित हो कि गत 10 सितंबर 2021 को पंजाब नेशनल बैंक में मर्ज हो चुके यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के धर्मशाला रोड स्थित शाखा के सात लॉकर से छेड़छाड़ कर करोड़ों के जेवरात गायब कर दिये गये थे. बैंक के डिप्टी मैनेजर प्रशांत कुमार ने ही कुछ लोगों की मिलीभगत से ग्राहकों के लॉकर को तोड़कर जेवर गायब कर दिये थे और फिर नया लॉक लॉकर में लगवा दिया था.

इसमें पुलिस डिप्टी मैनेजर के अलावे कई स्वर्ण व्यवसायियों की संलिप्तता सामने आयी थी. मामले में मैनेजर, डिप्टी मैनेजर समेत 15 लोगों को जेल भेजा गया है.

इसे भी पढ़ें : सीयूजे के असिस्टेंट प्रोफेसर से पूछताछ करेगी पुलिस, सीडीआर से खुल सकता है ठगी में उनकी संलिप्तता का राज

इस कांड के बाद डिप्टी मैनेजर प्रशांत कुमार की नयी करतूत सामने आयी थी. उसी शाखा में मृतकों सहित अन्य के खातों में सेंधमारी कर करीब 45 लाख रूपये का फर्जीवाड़ा कर लिया गया था.

जांच में पता चला था कि शाखा में खाता संचालित करने वाले कई ग्राहकों के खाते से अवैध रूप से पैसों की निकासी हुई है. 2 ग्राहक सेवा केंद्र संचालकों की मदद से यह घोटाला किया गया था.

इसे भी पढ़ें :पूर्वी सिंहभूम में 40 फीसदी बच्चे हो सकते हैं परीक्षा से वंचित, 15-18 वर्ष की आयु के मात्र 60 प्रतिशत ने ही लिया है टीका

कुछ राशि अकाउंट के जरिए ट्रांसफर की गयी थी. इसमें पता चला था कि प्रशांत के करीबी रिश्तेदार अरविंद कुमार राय, शैलेन्द्र कुमार राय के खाते में बहुत से ग्राहकों का अनाधिकृत लेन देन हुआ है.

इसी तरह ग्राहक सेवा केंद्र के ज्ञानचंद, अरुण की पत्नी पूनम देवी, बेटा सर्वजीत कुमार सिंह, अनिल कुमार व जीपी ट्रेडर्स के खातों का इस्तेमाल गलत कार्य के लिए किया गया.

बैंक मैनेजर रामा शंकर शर्मा ने इस संबंध में गत 8 जनवरी 2022 को शहर थाने में प्रशांत कुमार, ग्राहक सेवा केंद्र संचालक ज्ञानचंद कुमार सिंह और अरुण कुमार सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी. इसी तरह आईसीआईसीआई बैंक की ओर से भी गलत सामान रखकर पैसे लेने की प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी.

इसे भी पढ़ें :मेदिनीनगर शहरी जलापूर्ति योजना को मंजूरी, हर घर में नल से मिलेगा जल, 161.77 करोड़ आयेगी लागत

Related Articles

Back to top button