न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Palamu: सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में पेंशन की आस में पहुंचे वृद्ध की गिरकर मौत, तमाशबीन बने रहे पदाधिकारी  

गिरने के बाद आधा घंटा तक तड़पता रहा वृद्ध, शर्मसार हुई सरकार की योजना

992

Palamu: पलामू जिले में शनिवार से सरकार आपके द्वार कार्यक्रम कार्यक्रम की शुरूआत हुई. पहला कार्यक्रम जिले के तरहसी प्रखंड अंतर्गत पाठक पगार पंचायत भवन में आयोजित किया गया, लेकिन कार्यक्रम में पेंशन की आस में पहुंचा एक वृद्ध की गिरकर मौत हो गयी.

सबसे बड़ी बात यह रही कि गिरने के बाद वृद्ध आधा घंटा तक मौके पर तड़पता रहा, लेकिन किसी ने उसे इलाज के लिए नहीं भेजा. कार्यक्रम चलता रह गया और पदाधिकारी तमाशाबीन बने रह गये.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

डीडीसी भी कुछ देर के लिए वृद्ध को देखने पहुंचे, लेकिन कोई लाभ प्रभावित परिवार को दिला नहीं पाये.

ये है पूरा मामला  

#Palamu: सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में पेंशन की आस में पहुंचे वृद्ध की गिरकर मौत, तमाशबीन बने रहे पदाधिकारी  
बंद पड़ा स्वास्थ्य केंद्र.

मुख्य सचिव के निर्देशानुसार तरहसी प्रखंड के पाठक पगार पंचायत सचिवालय प्रांगण में सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.

कार्यक्रम में उप विकास आयुक्त बिंदु माधव सिंह समेत जिला के आला अधिकारी मौजूद थे. कार्यक्रम स्थल में लोगों की समस्या सुनने के लिए अलग-अलग स्टॉल लगाये गये थे. सभी विभाग के अधिकारी मौजूद थे.

इसी बीच पाठक पगार के 71 वर्षीय मौली भुइयां पेंशन स्वीकृति कराने के लिए पहुंचा. इस दौरान वहां अधिकारियों ने मौली भुईयां से आधार कार्ड व राशन कार्ड की फोटो कॉपी मांगी.

मौली भुइयां कागजात लेने घर चल गया. कागजात लेकर जब मौली भुइयां कार्यक्रम में पहुंचा तो वहीं गिर पड़ा. गिरने के बाद आधा घंटा तक तड़पता रहा.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

लेकिन वहां मौजूद कोई अधिकारी उसे देखने तक नहीं पहुंचे. आधे घंटे बाद मौली भुइयां ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. मौली भुइयां की मौत होने के बाद भी अधिकारी शव देखने नहीं पहुंचे.

इसे भी पढ़ें : #BioMedicalWaste को लेकर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बोकारो के नौ अस्पतालों को थमाया नोटिस

पत्रकारों की पहल पर पहुंचा एम्बुलेंस, लेकिन बैरंग लौटा 

पत्रकारों की पहल के बाद मौके पर एंबुलेंस पहुंचा, लेकिन एंबुलेंस संचालक शव ने ले जाने से मना किया. एंबुलेंस खाली लौट गया.

मृतक के परिजन खाट पर टांग कर शव घर ले गये. हालांकि उप विकास आयुक्त मृतक का शव देखने के बाद लौट गये.

पांच वर्ष से पेंशन के लिए परेशान था मौली भुइयां

मौली भुइयां की पत्नी शनिचरी देवी ने बताया कि वह और उनके पति पेंशन के लिए पिछले 5 सालों से प्रखंड व जिला का चक्कर लगाते लगाते थक चुके थे.

पाठक पगार पंचायत सचिवालय में आयोजित सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में वे पेंशन की समस्या लेकर यहां पहुंचे थे, जहां गिरने के बाद उनके पति की मौत हो गयी.

मृतक की पत्नी ने बताया कि उनका एक पुत्र है, जो बाहर में रखकर मजदूरी करता है.

पाठक पगार में करोड़ों का स्वास्थ भवन फांक रहा है धूल

कार्यक्रम के कुछ ही दूरी पर स्थित करोड़ों रुपये की लागत से बना स्वास्थ्य भवन धूल फांक रहा है. स्वास्थ्य भवन केंद्र के ही बगल में सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का आयोजन संचालित हो रहा था.

केन्द्र संचालित हो रहा होता तो मौली भुइयां की स्थिति बिगड़ने पर उसे इलाज के लिए यहां भर्ती कराया जा सकता था.

इसे भी पढ़ें : Interview : फिर क्या भाजपाई हो जायेंगे प्रदीप यादव ! जानिये क्या कहा न्यूजविंग से

मौली भुइयां की मौत के जिम्मेदार कौन?

मृतक की पत्नी व ग्रामीणों ने कहा कि मौली भुईयां की मौत का जिम्मेवार सिर्फ सरकार व जिला प्रशासन ही हैं. यदि जिला प्रशासन व सरकार मौली भुइयां को पहले ही पेंशन बना देते तो घटना नहीं होती.

ग्रामीण बताते हैं कि इस तरह के कार्यक्रम सरकार द्वारा किये जाते हैं. लाखों रूपये बर्बाद होते हैं. अधिकारी ग्रामीणों को समस्या सुनते हैं और आवेदन जमा कराकर चल जाते हैं. बाद में ग्रामीण प्रखंड व जिला का चक्कर काटते रहते हैं.

बिचैलिये मांग रहे थे मौली से पैसे 

बताया जाता है कि प्रखंड कार्यालय में आयोजित शिविर में भी मौली भुइयां पेंशन के लिए आवेदन जमा किया था, लेकिन उसे आज तक पेंशन नहीं स्वीकृति की गयी.

बिचैलियों द्वारा मौली भुइयां से पैसे की मांग की जा रही थी. मौली भुइयां द्वारा पैसा नहीं दिये जाने के कारण आज तक उसकी पेंशन स्वीकृत नहीं हुई.

मौली भुइयां और पत्नी को पेंशन के लिए फार्म ऑनलाइन भी किया था, लेकिन उसे 5 सालों से सिर्फ आश्वासन ही मिलता रहा.

जरूरमंद को पेंशन का लाभ नहीं मिलता

ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि इस पंचायत में कई ऐसे गरीब वृद्ध हैं, जिन्हें आज तक उन्हें पेंशन स्वीकृति नहीं हो सकी. कई लोग फर्जी तरीके से पेंशन का लाभ ले रहे हैं.

ग्रामीणों ने मामले की उच्च स्तरीय जांच कराकर मौली के परिजनों को उचित लाभ देने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें : ब्लॉक से DC ऑफिस रिपोर्ट नहीं पहुंचने के कारण फंसा मुआवजा, सड़क निर्माण के दो साल बाद भी नहीं हुआ भुगतान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like