JharkhandPalamu

पलामू: अब महाराष्ट्र में सड़क हादसा, पलामू के मजदूर सहित चार की मौत, डेढ़ दर्जनभर जख्मी

Palamu : महाराष्ट्र के सोलापुर से मजदूरों को लेकर आ रही एसटी बस दुर्घटनाग्रस्त हो गयी. घटना यवतमाल जिले के अरानी तालुका के बीच कोलवन गांव के समीप हुई. मजदूरों से भरी बस ट्रक के पीछे वाले हिस्से से बुरी टकरा गयी.

इस हादसे में पलामू जिले के एक मजदूर सहित चार की मौत हो गयी. जबकि 15 लोग घायल हैं. घायलों पलामू के सात, जबकि गढ़वा के आठ मजदूर शामिल हैं. इन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

मरने वालों मजदूर की पहचान पलामू के पाटन प्रखंड के सूठा गांव निवासी प्रताप मांझी के पुत्र अनुज मांझी के रूप में हुई है.

advt

इसे भी पढ़ेंः #Dhanbad : बीएनआर साइडिंग समीप रघुकुल और सिंह मेंशन समर्थकों में हुई झड़प, चार राउंड चली गोली, दो घायल

अनुज मांझी दिसम्बर 2019 में मजदूरी करने के लिए महाराष्ट्र के कोलहापुर गया था. लाॅक डाउन के बाद काम बंद होने के कारण वह घर लौटने की तैयारी में था. इसी बीच वह अन्य मजदूरों के साथ तड़के 3.30 बजे एक बस से ट्रेन पकड़ने के लिए स्टेशन जा रहा था.

इसी बीच यवतमाल जिले में ट्रक के पीछे वाले हिस्से में बस की टक्कर हुई. इसमें चालक सहित चार मजदूरों की मौत हुई. जबकि पाटन और गढ़वा जिले के हरिहरपुर ओपी क्षेत्र अंतर्गत लोहरगड़ा गांव के 15 मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गये. घटना में लोहरगड़ा गांव के बेलास साह, अशोक साह, सोनू साह, अनुप राम, उमेश राम, नंदू राम गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंः मनरेगा में घोटाला करने वाले को बचा रहा चतरा प्राशसन, कार्रवाई के नाम पर हो रही है खनापूर्ति

adv

अनुज के परिजनों ने बताया कि सोमवार की शाम तक अनुज से बात हुई थी. उसने बताया था कि बस से उसे स्टेशन जाना है और वहां से वह झारखंड पहुंचेगा. तड़के चार बजे पुनः फोन आया कि श्रमिकों को लेकर स्टेशन आ रही बस हादसे के शिकार हो गयी है. इसमें अनुज मांझी की मौत हो गयी है.

दुर्घटना के बाद अनुज के परिजन उसके शव को लेकर परेशान हैं. परिजनों ने जिला प्रशासन और झारखंड के मुख्यमंत्री से अविलंब शव मंगाने का आग्रह किया है, ताकि अनुज के अंतिम दर्शन कर उसका अंतिम संस्कार किया जा सके. घटना के बाद परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है.

विदित हो कि जिले के छतरपुर प्रखंड के चीरू गांव के नीतीश यादव की मौत गत शनिवार को इसी तरह के हादसे में हो गयी थी. नीतीश भी अन्य मजदूरों के साथ ट्रक में सवार होकर अपने घर लौट रहा था. नीतीश का शव कल उसके पैतृक गांव पहुंचा था.

इसे भी पढ़ेंः इन 8 राज्यों में जायेंगी सबसे अधिक नौकरियां, कितनी? लगभग 40 करोड़

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button