Corona_UpdatesPalamu

#Palamu: अब पंजाब के लुधियाना से 1161 प्रवासी मजदूरों को लेकर पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन

Palamu: लॉकडाउन के तीसरे चरण के चौथे दिन गुरुवार को भी प्रवासी मजदूरों की झारखंड वापसी हुई. पलामू जिले में लगातार दूसरे दिन भी सैकड़ों मजदूर पंजाब के लुधियाना से पहुंचे. सुबह 10.30 बजे पंजाब के लुधियाना से श्रमिक स्पेशल ट्रेन 1161 कामगारों को लेकर डालटनगंज रेलवे स्टेशन पर पहुंची.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaEffect:3700 कर्मचारियों की छंटनी करेगा उबर, CEO ने लेटर लिख कहा- जरूरत नहीं अब आपकी

इनमें झारखंड के छह जिलों के श्रमिक शामिल थे. अपने घर पहुंचने पर कामगारों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. सभी ने सरकार के प्रति प्रसन्नता व्यक्त की.

Catalyst IAS
SIP abacus

कुछ मजदूरों अपने परिवार के साथ पहुंचे थे. विदित हो कि बुधवार को पंजाब के जालंधर से प्रवासी मजदूरों को लेकर श्रमिक स्पेशल सुपरफास्ट ट्रेन डालटेनगंज पहुंची थी. ट्रेन में 1188 मजदूर मौजूद थे.

MDLM
Sanjeevani

स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग

ट्रेन के डालटनगंज रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 3 पर पहुंचने पर आगे की बोगी से एक-एक करके सारे मजदूरों और उनके परिजनों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए उतारा गया.

स्टेशन पर बच्चे की थर्मल स्क्रीनिंग करते चिकित्सा कर्मी

प्लटेफार्म संख्या-1 पर बनाये गये मेडिकल सेंटर पर सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ केनेडी के नेतृत्व में विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम द्वारा सभी पुरूष-महिला एवं बच्चों के हाथों को हैंड सैनेटाइजर से सैनेटाइज किया गया एवं मास्क उपलब्ध कराया गया. साथ ही थर्मल स्कैनर से सभी की स्क्रीनिंग कर प्रारंभिक स्वास्थ्य जांच की गयी.

पलामू के सबसे अधिक 739 श्रमिक

स्पेशल ट्रेन से उतरे श्रमिकों ने कहा कि दूसरे राज्यों में काम-धंधा बंद हो गया था. ऐसे में वहां एक पल भी रहना मुश्किल था. पलामू पहुंचकर वे सुरक्षित महसूस करने लगे हैं. गुरुवार को पहुंचे मजदूरों में पलामू जिले के सबसे अधिक 739 श्रमिक थे. जबकि हजारीबाग जिले के 99, गिरिडीह के 58, रांची 73, चतरा 151 एवं बोकारो के 41 श्रमिक शामिल थे.

इसे भी पढ़ेंःनिजी पैथलैब में कोरोना की जांच का शुल्क 4500 नहीं बल्कि 2250 रुपये किया जाये: बाबूलाल मरांडी

प्लेटफॉर्म से लेकर निकास तक लगी थी बैरिकेडिंग

कोरोना वायरस संक्रमण को ध्यान में रखते हुए एहतियायत के तौर पर प्लेटफॉर्म से लेकर स्टेशन के निकास द्वार (सम्मान रथ-बस) तक बैरिकेडिंग की गयी थी. वहीं जगह-जगह पुलिस जवान तैनात थे और वे श्रमिकों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग की गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे. पुलिस अधीक्षक अजय लिंडा खुद इस पर निगरानी रखे हुए थे.

चियांकी एयरफील्ड में थी विशेष व्यवस्था 

डालटेनगंज रेलवे स्टेशन से श्रमिकों को चियांकी एयरफील्ड परिसर में बने सहायता केन्द्र पर पहुंचाया गया. एयरफील्ड परिसर स्थित पार्किंग स्थल-विधि-शांति व्यवस्था पर जिले के उप विकास आयुक्त बिंदु माधव प्रसाद सिंह एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सुरजीत कुमार नजर रखे हुए थे. यहां पहुंचने पर श्रमिकों को वहां लगी कुर्सियों पर बैठाकर खाने का पैकेट और बोतल बंद पानी दिये गये. जिला समाज कल्याण पदाधिकारी आफताब आलम श्रमिकों की स्वास्थ्य जांच, हाथों पर स्टम्पिंग इत्यादि व्यवस्थाओं पर नजर रखे हुए थे.

घरों तक सकुशल पहुंचाये जा रहे श्रमिक: उपायुक्त  

जिले के उपायुक्त डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि ने कहा कि सभी औपचारिकताओं को पूरे किए जाने के बाद संबंधित प्रखंडों के क्वारेंटाइन सेंटर के लिए श्रमिकों को रवाना किया जाएगा. वहीं राज्य के अन्य जिलों के आने वाले श्रमिकों को डालटेनगंज रेलवे स्टेशन से सीधे उनके संबंधित जिला मुख्यालयों में सकुशल भेजे जाने की व्यवस्था की गयी है.

इसे भी पढ़ेंः#Karnatak: कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 30 तक पहुंचा, संक्रमितों की संख्या 700 के पार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button